22 फ़रवरी 2017

बनेगा सिंहेश्वर पर्यटन स्थल?: केंद्र के पर्यटन मंत्रालय के अधिकारी के साथ पहुंचे सांसद

मधेपुरा जिले के सिंहेश्वर के मंदिर प्रांगण में सिंहेश्वर को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के उद्देश्य से भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय की तीन सदस्यीय टीम के उप निदेशक अमन कुमार को मधेपुरा के सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने सिंहेश्वर के महात्म्य और पौराणिक स्थल के दर्शन कराया ।

      मंदिर परिसर में लोगो की जन सभा को संबोधित करते हुए सांसद श्री यादव ने कहा बिहार मे एक से एक संभावनायें है । धार्मिक पौराणिकता का विशाल भंडार है । जगह जगह हमारी पौराणिक संस्कृति के अवशेष बिखड़े पडे हैं, जरूरत है उसे समेट कर विकसित करने की, जो किसी भी सरकार ने नही किया है । उन्होंने कहा विश्व में तीन सूर्य मंदिरों में एक सहरसा जिला के कन्दाहा का सूर्य मंदिर कई विशिष्टता के साथ पौराणिक कथाओं में महत्वपूर्ण स्थान रखने के बावजूद आज तक उसका विकास नही हो पाया है । कारू खिरहरी की चर्चा करते हुए कहा कि वहां देश विदेश से लोग आते हैं लेकिन उसका समुचित विकास नही हो पाया है । उग्रतारा शक्ति पीठ कितना महत्वपूर्ण स्थल है लेकिन विकास नही होने के कारण लोग नही जान पा रहे हैं. वह ग्रंथो में सिमट कर रह गया है ।
    बाबा सिंहेश्वर नाथ के जागृत लिंग की चर्चा करते हुए कहा कि दुनियां में सिंहेश्वर बाबा के जागृत लिंग से बढ कर कोई लिंग नही है । जबकि झारखंड के देवघर और मध्य प्रदेश के महा काल का ढिंढोरा दुनिया भर में पीटा गया । उन्होंने लोकसभा में इस पर सवाल भी उठाया और कहा कि बिहार का विकास बिना पर्यटन स्थल घोषित किये नही हो सकता है ।  उन्होंने ने कहा हर क्रांति मे भी बिहार अग्रणी रहा है । समाजवाद बिहार,  बाबू बीर कुवर सिंह बिहार, गुरू नानक बिहार, आर्यभट बिहार, माता सीता बिहार, राजा दशरथ बिहार, चंपारण बिहार, विक्रमशिला बिहार, बुद्ध बिहार, नानक बिहार  धरोहरों में है । जबकि पूरे कोशी में अध्यात्म के अवशेष बिखरे पड़े हैं. उन्होंने कहा कि 2017 में कोशी क्षेत्र के पांच जगहों को भारत सरकार की सौगात मिलने की संभावना है । हम सिंहेश्वर स्थान को एनएच 106 से 107 में, दरभंगा से बनमनखी खुर्दा होते हुए जोडना चाहते हैं । वही रेल से सिंहेश्वर धाम , कुशेश्वर स्थान, तारा पीठ और धार्मिक स्थलों से जोड़ना चाह रहे हैं ।
   मौके पर राजीव कुमार बबलू, राजेश कुमार झा, मुकेश कुमार, हैदर अली, पंकज भगत, विजय भगत, सरोज सिंह, मनोज यादव, उदय झा आदि मौजूद थे ।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...