28 जनवरी 2017

पहले दुष्कर्म, फिर दुष्कर्मी को बचाने के लिए भरी पंचायत में पीड़िता पर जुल्म

ये समाज है. समझिये इस समाज को. यहाँ चंद लोग पूरे समाज के ठेकेदार बने बैठे हैं. किसी ने कहा है कि पैसा, पुलिस, पॉवर और पॉलिटिक्स पर जिसकी पकड़ हो गई वो यदि नियम और कानून को अपनी रखैल बना लिया तो आश्चर्य नहीं.

      शायद आप सोच रहे होंगे कि आज हम इतना खराब क्यों लिख रहे हैं. कारण है. एक बलात्कारी को बचाने के लिए जब समाज के दबंग कानून के साथ खिलवाड़ करने लगे तो कानून के असली ठेकेदार पुलिस और जनप्रतिनिधि को जगाने के लिए कुछ इसी तरह की भाषा इस्तेमाल करनी चाहिए. और फिर भी ये न जगे तो यकीन मानिए, संवेदनहीन समाज में आपका मालिक सिर्फ उपरवाला ही हो सकता है.

    मामला मधेपुरा जिले के आलमनगर थानाक्षेत्र से जुड़ा है जहाँ सामजिक व्यवस्था को शर्मसार करते हुए पंचायत में दुष्कर्म की शिकार महिला के साथ उलटे मारपीट कर प्रताड़ित किया जाता है. यह घटना लोगों के जुबां पर इस इलाके में तैर रही है. घटना से आहत लोगों ने दोषी लोगों पर कारवाई करने की मांग की है. मामला आलमनगर थाना के बिस्पट्टी पंचायत के अकहा गाँव की है. 
    पीड़िता ने बताया कि वो 22 जनवरी को अपने घर में सोई हुई थी कि गाँव के हीं विनोद साह के पुत्र बिकास साह जो कि पेशे से झोला छाप डाक्टर है, वो रात के नौ बजे मेरे घर में घुस गया और मेरे साथ जबरदस्ती दुष्कर्म करने लगा. मैं चिल्लाना चाही तो मेरे मुंह को कपड़ा से बाँध दिया और मेरे साथ दुष्कर्म किया. उसी दौरान आहट सुनने पर मेरे ससुर रामवृक्ष शर्मा पहुंचे और  बिकास साह को अन्य लोगों की मदद से पकड़ लिया. उसके बाद 23 जनवरी को पंचायत बुलाया गया जिसमें दुष्कर्म के आरोपी बिकास साह को रंजीत साह सहित अन्य लोगों ने जबरदस्ती भगा दिया. उसके उपरान्त 24 जनवरी को सरपंच,पंच, मुखिया सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं ग्रामीणों के समक्ष पंचायत किया गया. इस दौरान भरी पंचायत में मेरे साथ मारपीट एवं गाली गलौज करने लगा एवं थाना में केस करने के बदले जान से मारने की धमकी देने लगा. मैं किसी तरह इन लोगों से नजर बचाते हुए आलमनगर थाना पहुँच कर अपनी व्यथा सुनाई एवं थाने में लिखित आवेदन दिया.

      थानाध्यक्ष आलमनगर सुनील कुमार कहते हैं कि पीड़िता के दिऐ गये आवेदन पर प्राथमिकि दर्ज कर ली गई है और पीड़िता का मेडिकल जांच कराया गया है. आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है. घटना की खबर पूरे क्षेत्र में जंगल के आग की तरह फ़ैल गई एवं लोग द दबंगों द्वारा इस कुकृत्य के आरोपियों को सजा देने की बजाय उल्टे पंचायत में पीड़िता का अपमान एवं मारपीट करने से हतप्रभ हैं. उनका कहना है कि ऐसे कारनामे में शामिल आरोपी सहित दबंगों पर कड़ी से कड़ी कारवाई की जाए ताकि ऐसी घटना की पुनरावृति न हो सके.
(रिपोर्ट: प्रेरणा किरण)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...