31 जनवरी 2017

मधेपुरा: डॉक्टर के बयान से भड़का आक्रोश, मशाल जुलूस और बाजार बंद का निर्णय

बीते शनिवार को मधेपुरा जिले के पुरैनी मुख्यालय पंचायत के ग्राम कचहरी के पंच रीता देवी की मृत्यु के उपरांत परिजनो द्वारा पीएचसी पुरैनी के चिकित्सा प्रभारी अजय कुमार सिन्हा पर आरोप लगाते हुए किये गये हंगामे के पश्चात पुरैनी थाना मे प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी.

   इसके उपरांत एक दैनिक समाचार पत्र मे चिकित्सा प्रभारी द्वारा दिये गये यह बयान कि पंच रीता देवी का कोई आपरेशन मेरे द्वारा नही किया गया है, से परिजन सहित ग्रामीणो का आक्रोश पुनः भड़क गया है. मामले को लेकर मुख्यालय स्थित दुर्गा मंदिर परिसर मे पुरैनी ग्राम कचहरी के सरपंच उमेश सहनी की अध्यक्षता मे एक आपातकालीन बैठक कर सर्वसम्मति से कल संध्या मे चिकित्सक के खिलाफ मशाल जुलूस और 2 को बाजार बंद और चक्काजाम का निर्णय लिया गया.
     मौके पर युवा जदयू प्रदेश सचिव आलोक राज, गणेशपुर पंचायत के मुखिया मो वाजिद, युवाध्यक्ष गौरव राय, युवाशक्ति अध्यक्ष राजेश रौशन, कालीचरण साह , श्यामदत्त सहनी, बालाजी, दिनेश पंडित, विलाश शर्मा, हिमांशु कुमार, रितेश साह , राजीव यादव, रामप्रसाद सहनी, सुशील साह, बुलबुल साह, अरविंद साह, विजय साह, राजेश साह, इनो साह , विनोद सहनी, अरहुला देवी आदि उपस्थित थे.

फिर से जानें, क्या था मामला?: पुरैनी पीएचसी मे बीते बुधवार को पुरैनी पंचायत के वार्ड नंबर 12 निवासी ग्राम कचहरी पुरैनी की पंच रीता देवी परिवार नियोजन का आपरेशन कराने पहुँची थी तो डाक्टर ने पेट चीरकर पुनः टाका लगाकर उसे अपने निजी क्लिनिक पर आने की बात कही. पर रविवार को ही पंच रीना देवी की मृत्यु हो गई, जिसके बाद परिजनो और ग्रामीणो ने जमकर बवाल काटा. फिर मृतक पंच के पति मंटू साह के आवेदन पर पुरैनी थाना मे मामला दर्ज किया गया था. अब सम्बंधित डॉक्टर के ताजा बयान के बाद मामला एक बार फिर गर्मा गया है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...