08 दिसंबर 2016

मधेपुरा: सिंचाई विभाग के जेई को रेलवे पुलिस ने किया गिरफ्तार

मधेपुरा जिले के मुरलीगंज सिंचाई विभाग के कनीय अभियंता सुरेश कुमार सिन्हा को गिरफ्तार कर लिया गया है. गिरफ्तारी बनमनखी रेलवे पुलिस द्वारा रेलवे की सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने के जुर्म में मामला दर्ज कर किया गया.
मिली जानकारी के अनुसार पूर्वोत्तर रेलवे मंडल समस्तीपुर के द्वारा की गई कार्यवाही  में जेसीबी मशीन सहित मुरलीगंज सिंचाई विभाग के कनीय अभियंता सुरेश कुमार सिन्हा को हिरासत में बनमनखी आरपीएफ द्वारा लिया गया.
 
   मामला मुरलीगंज रेलवे स्टेशन से पूरब पकिलपार उप वैतरणी नहर आर डी 77 का है. पिछले अक्टूबर में पानी अत्याधिक हो जाने के कारण कमजोर बिन्दु पर स्थिति काफी जर्जर होने की वजह से रेलवे ढाला के समीप उत्तर एवं  नहर का पूर्वी भाग का तटबंध टूट गया था और पकीलपार के किसानों की खेतों में लगी सैकड़ों एकड़ धान की फसल पानी में डूब गई थी. किसानों के आवेदन पर नहर के बांध बनवाने का कार्य किया गया था लेकिन बांध निर्माण के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति कर सिंचाई विभाग के मुलाजिम और ठेकेदारों की मिलीभगत से लाखों रूपये के वारे-न्यारे किये गये. जिसके कारण नहर का सही ढंग से मरम्मत नहीं हो सका था.  फलस्वरूप पानी  का रिसाव होता रहा. कुछ दिन बाद बची धान की फसल जब पूरी तरह कटनी के लिए तैयार थी तो बची-खुची कसर फिर टूट कर पूरी हो गई. किसानों के खेतों में लगे सैंकड़ों एकड़ की धान बर्बाद हो गई. हालांकि किसानों के धान की क्षति का मुआवजा संभवत स्वीकृत भी हो गया है. लेकिन सिंचाई विभाग मुरलीगंज के मुलाजिमों की लापरवाही के कारण किसानों की रबी की फसल प्रभावित हो गई है. कोसी सिंचाई विभाग मुरलीगंज के पदाधिकारियों की लापरवाही का मामला मधेपुरा टाइम्स ने भी प्रकाशित की थी लेकिन इनकी मनमानी नहीं रुकी और ना ही इन पर कोई विभागीय कार्यवाही हुई. बीते बुधवार को पुनः नहर के बांध बनाने का कार्य शुरू किया गया था और जहां  जे सी बी मशीन से मिट्टी काटवाया जा रहा था वह भूभाग रेलवे के क्षेत्राधिकार के अंतर्गत आता था. रेलवे के कर्मचारी द्वारा सिंचाई विभाग को मिट्टी काटने से मना करने के बावजूद मिट्टी काटी गई और संचार व्यवस्था को क्षति पहुंची. कनीय अभियंता सुरेश कुमार सिन्हा को मिट्टी काटने से मना किया कि वहां गड्ढा करें क्योंकि वहां अति आवश्यक रेलवे विभाग के संचार माध्यम का केबल वायर बिछा हुआ है जिन्हें नुकसान पहुंच सकता है. लेकिन सिंचाई विभाग के अधिकारी ने नहीं माना और जेसीबी मशीन से खुदाई करते रहे जिसके फलस्वरुप वहां जमीन के अंदर बिछी रेलवे विभाग की संचार माध्यम केबल वायर क्षतिग्रस्त हो गया है. जिसके कारण रेल परिचालन कुछ घंटो के लिए बाधित हो गया था. इस घटना की जानकारी समस्तीपुर रेल मंडल के द्वारा जब सहरसा तकनीकी विभाग के पदाधिकारी को दी गई कि मुरलीगंज और बनमनखी जंक्शन के बीच संचार संपर्क भंग हो गया है तो सहरसा रेल तकनीकी विभाग के द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए अपनी तकनीकी टीम को मुरलीगंज भेजा गया.
     मौके पर उपस्थित पूर्वोत्तर रेलवे के सहरसा कनीय अभियंता अमित कुमार सुमन ने बताया कि हम लोग पूरी टीम बुधवार को शाम 5:00 बजे ही स्थल पर पहुंचकर क्षतिग्रस्त केबल वायर का मरम्मत कार्य शुरू करवाया गया और तत्काल मरम्मत कर बाधित रेल परिचालन को सुचारु करवाया गया. इसके कारण ट्रेन कारण समय सारणी बिलम्ब हुआ. मरम्मत कार्य जारी है और आज लगभग दो 3:00 बजे तक कार्य संपन्न कर लिया जाएगा. उन्होंने बताया कि सिंचाई विभाग को मना करने के बावजूद भी ऐसा किया जिसके कारण यह क्षति हुई है. उन्होंने कहा कि रेलवे पुलिस बनमनखी की तरफ से अपर निरीक्षक और सहायक निरीक्षक की टीम मौके पर पहुंचकर सिंचाई विभाग के कनीय अभियंता सुरेश कुमार सिन्हा को जेसीबी मशीन सहित अपने हिरासत में लेकर उचित कानूनी कार्यवाही हेतु रेलवे पुलिस पोस्ट बनमनखी ले गए. इस विषय पर रेलवे पुलिस बनमनखी के सहायक निरीक्षक तारकेश्वर कुमार यादव ने बताया कि सिंचाई विभाग के कनीय अभियंता के खिलाफ रेलवे अधिनियम की धाराओं के तहत गिरफ्तार कर उनके खिलाफ कांड संख्या 288 /16 मुकदमा दर्ज किया गया है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...