31 दिसंबर 2016

खबर का असर: 3000 वर्ष पुरानी ऐतिहासिक धरोहर का निरीक्षण करने पहुंचे डीएम

मधेपुरा टाइम्स पर मधेपुरा में 3000 वर्ष पुरानी ऐतिहासिक धरोहर, शिव की एक और नगरी के संकेत रिपोर्ट प्रकाशित होने के बाद अब जिला प्रशासन ने मधेपुरा के घैलाढ़ प्रखंड अंतर्गत श्रीनगर गाँव में मौजूद ऐतिहासिक धरोहरों के निरीक्षण को पहुंचे.   

     जिला पदाधिकारी मो. सोहैल ने घैलाढ़ प्रखंड के श्रीनगर गाँव जाकर 3000 हजार वर्ष पुराने धरोहर और अवशेष स्थल का निरीक्षण किया. निरीक्षण  के बाद डीएम मो० सोहेल ने कहा कि बिहार के मुजफ्फरपुर के चिरान गाँव के बाद अब मधेपुरा के घैलाढ़ प्रखंड अंतर्गत श्रीनगर गाँव में ही 3000 हजार वर्ष पुराने प्राचीन कालीन अवशेष मौजूद हैं. उन्होंने कहा कि जल्द पुरातत्व विभाग एवम पर्यटन विभाग को पूरी रिपोर्ट भेजी जा रही है और खुदाई के बाद कई अन्य अवशेष  भी मिल सकते हैं.

     गाँव को पर्यटन स्थल घोषित करने से सम्बंधित ग्रामीणों की माँग पर उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन सजग है और जल्द अपनी रिपोर्ट राज्य सरकार को भेजेगी ताकि पुरातत्व विभाग व पर्यटन विभाग यहाँ का सर्वेक्षण कर पर्यटन स्थल के रूप में घैलाढ़ प्रखंड के श्रीनगर गाँव को घोषित कर सके.

   जिलाधिकारी के निरीक्षण के दौरान घैलाढ़ के अंचलाधिकारी सतीश कुमार, प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन, मधेपुरा के अध्यक्ष किशोर कुमार, दमयंती शत्रुघ्न एकेडमी के प्राचार्य अरूण कुमार सिंह, पंचायत के मुखिया जयनंदन यादव, थानाध्यक्ष संजीव कुमाए, बीडीओ आशा कुमारी, समिधा ग्रुप के निदेशक संदीप शांडिल्य, एबीवीपी के राहुल कुमार आदि तथा बड़ी संख्यां में ग्रामीण भी स्थल पर उपस्थित थे. 

 पढ़ें हमारी एक्सक्लूसिव रिपोर्ट: 

मधेपुरा में भारी मात्रा में पुरातत्व अवशेष, क्या होगी खुदाई?

मधेपुरा में 3000 वर्ष पुरानी ऐतिहासिक धरोहर, शिव की एक और नगरी के संकेत

(रिपोर्ट: कुमार शंकर सुमन, सब-एडिटर के साथ लालेंद्र कुमार)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...