06 दिसंबर 2016

जीविका दीदियों का विशाल प्रदर्शन, डीएम ने किया 4 आरोपी शिक्षकों को निलंबित

मधेपुरा जिले के बिहारीगंज में आज ग्रामीण विकास विभाग बिहार सरकार बैनर तले हजारों जीविका दीदी बिहारीगंज के द्वारा शिक्षकों की निरंकुशता और स्वेच्छाचारिता पर अंकुश  लगाने का अनुरोध प्रशासनिक अधिकारियों से की गई.
पिछले दिनों बिहारीगंज के बेलाही जीविका ग्रामसंगठन के कोषाध्यक्ष दीदी एवं उनके परिजनों पर हुऐ जानलेवा हमले के खिलातीन सूत्री मांगों को लेकर आक्रोश प्रदर्शन किया गया. इस विरोध  प्रदर्शन में करीब पाँच हजार की संख्या में जीविका समूह से जुड़ी दीदियों ने भाग लिया. मुख्य मांगे मामले में दोषी शिक्षकों एवं अन्य आरोपियों की अविलम्ब गिरफ्तारी करने, जीविका दीदियों की सुरक्षा, पीड़ित जीविका दीदियों को सरकारी राहत एवं क्षतिपूर्ति की उपलब्धता कराना था.
क्या है मामला?:  यह मामला मधेपुरा जिले के बिहारीगंज थाना क्षेत्र अंतर्गत बेलाही ग्राम का है पररिया पंचायत के बेलाही में महादेव जीविका महिला ग्राम संगठन की कोषाध्यक्ष मंजुला देवी एवं स्थानीय श्री महावीर शिवनंदन मध्य विद्यालय बेलाही के प्रधान शिक्षक एवं सहायक शिक्षकों का है. प्राप्त जानकारी अनुसार महादेव जीविका ग्राम संगठन के  जीविका  दीदीयों के द्वारा श्री महावीर शिवनंदन मध्य विद्यालय में निरीक्षण किया गया था, जिसमें अनियमितता और गड़बड़ी पाने पर जीविका ग्राम संगठन की जांच प्रतिवेदन आगे कार्यवाही के लिए प्रेषित की गई थी. जिसके कार्यवाही में विद्यालय के प्रधानाचार्य निरंजन कुमार राय को सस्पेंड कर दिया गया था. प्रधानाध्यापक के सस्पेंड के होने के बाद जीविका ग्राम संगठन की कोषाध्यक्ष मंजुला देवी के अनुसार विद्यालय के प्रधान शिक्षक एवं सहायक शिक्षकों सहित अन्य स्थानीय कुछ लोगों के द्वारा उन्हें धमकियां दी जा रही थी और बीते शुक्रवार को दिन के लगभग 1:30 बजे के आसपास जीविका संगठन की कोषाध्यक्ष दीदी मंजुला देवी के घर पर उनके पति  बौकु मंडल और  पुत्र रिंकू मंडल के साथ विद्यालय के शिक्षकों के द्वारा मारपीट कार  उनके घर कोआग के हवाले कर दिया गया.  जीविका की दीदी मंजुला देवी के द्वारा बिहारीगंज थाना में विद्यालय के प्रधान शिक्षक एवं सहायक शिक्षक सहित अन्य 4 को नामजद कर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है. इधर मामले की छानबीन के लिए किशुनगंज एसडीपीओ अरुण कुमार दुबे बिहारीगंज थाना अध्यक्ष विरेन्द्र कुमार महतो  अपने दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर घटना के बारे में विस्तृत जानकारी ली.  
      घटना के दिन से ही विद्यालय में ताला लगाया हुआ है और सभी शिक्षक फरार बताए जा रहे थे. आज जब मौके एवं हालात का जायजा लेने  विद्यालय  पहुँचे तो विद्यालय  में 2 शिक्षक सहित एक शिक्षिका बरामदे पर बैठी हुई थी और विद्यालय की सभी कक्षाओं में ताला लटक रहा था. शिक्षक राकेश कुमार चौधरी से पूछे जाने पर कि ताला लगा हुआ है तो आप लोग क्या कर रहे हैं,  उन्होंने बताया कि विद्यालय बंद है हम लोग चाहते हैं कि किसी तरह ताला खुलवाया जाए और पठन-पाठन को सुचारु करवाया जाए. घटना के संबंध में पूछने पर उन्होंने बताया कि हम लोग अपने अपने क्लास में थे और मध्यान्ह भोजन का समय था. सभी बच्चे मध्यान्ह भोजन कर चुके थे तभी अचानक स्थानीय धीरेंद्र झा भागते हुए विद्यालय में आए और चिल्लाने लगे हमें बचा लीजिए हमें बचा लीजिए. हम लोगों ने मानवता के आधार पर उन्हें कुछ देर विद्यालय में रखा और फिर उन्हें आनन-फानन में अस्पताल पहुंचाया गया. वहीँ विद्यालय शिक्षा समिति के अध्यक्ष मोहम्मद गयास ने बताया कि विद्यालय के प्रधान शिक्षक निरंजन कुमार राय ने उन्हें कभी अध्यक्ष के रूप में स्वीकार नहीं किया. उन्होंने बताया कि मैं पिछले 5 वर्ष से और पूर्व में भी मैं ही विद्यालय का अध्यक्ष बना रहा, लेकिन विद्यालय के प्रधान शिक्षक निरंजन राय हमेशा यही कहते रहे कि हम नहीं  मानते है किसी अध्यक्ष को. विद्यालय में जो भी काम हुए हैं और जिसमें अध्यक्ष के हस्ताक्षर की जरूरत होती है आज तक मुझे हस्ताक्षर  नहीं करने दिया और ना ही कभी मुझे रजिस्टर देखने दिया गया.    
     आज के आक्रोश प्रदर्शन रैली में लगभग 5 हजार की संख्या में जीविका दीदियों ने भाग लिया. इस आक्रोश प्रदर्शन रैली में जीविका के जिला कार्यक्रम प्रबंध पदाधिकारी मधेपुरा अमर शेखर पाठक ने बताया कि विद्यालय के शिक्षकों को ऐसा लगता है कि जीविका की अनपढ़ दीदी घास काटने वाली महिला अब हमारी जांच करेगी. यही बात उन लोगों को खटकती है जिस कारण से उन लोगों ने इस घटना को अंजाम दिया है. हम लोगों ने इस घटना की जानकारी थानाध्यक्ष को दी और मुकदमा दर्ज कराया. साथ ही हमलोगों की जिला पदाधिकारी, पुलिस अधीक्षक एवं थानाध्यक्ष से बात हुई है. उन लोगों ने न्याय दिलाने का आश्वासन दिया है और हम तब तक लड़ेंगे जब तक की न्याय नहीं मिले इस कार्यक्रम में जिला स्तर से लेकर प्रखंड स्तर तक के जीविका के सभी पदाधिकारीगण मौजूद थे.
     उधर आज मधेपुरा के जिलाधिकारी मो० सोहैल भी मौके पर पहुंचे और जीविका दीदियों के प्रति सहानुभूति जताते हुए न सिर्फ जीविका दीदी चेक पीड़ित मंजुला देवी को प्रदान किया बल्कि आरोपी चार शिक्षकों राकेश चौधरी, मनोज चौधरी, मनोज कुमार तथा प्रधानाध्यापक निरंजन राय को निलंबित कर दिया है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...