26 दिसंबर 2016

शूटर सोनू हत्या मामले में भाजपा विधायक बबलू सिंह सहित 15 पर प्राथमिकी

सुपौल। शार्प शूटर सोनू सिंह उसके शागिर्द हिमांशु मिश्रा हत्या मामले ने अब राजनीतिक रूप भी ले लिया है और आरोप भाजपा विधायक समेत अन्य पर लगाया गया है.
जिला परिषद अध्यक्ष रंजू देवी द्वारा हत्या को लेकर रविवार की रात वीरपुर थाना कांड संख्या 324/16 दर्ज कराया गया है, जिसमें छातापुर के भाजपा विधायक नीरज कुमार सिंह बबलूपर अपने भाई सोनू सिंह की हत्या करवाने का आरोप लगाया गया है. इसके अलावा प्राथमिकी में वीरपुर नगर पंचायत अध्यक्ष गोपाल आचार्य, विनोद भिंडवार की पत्नी हृदयनगर पंचायत की मुखिया बबीता देवी, श्रीलाल गोठिया सहित 15 लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया है. 
   जिप अध्यक्ष की मानें तो उनके भाई सोनू हृदय नगर मुखिया बबीता देवी के विशेष आमंत्रण पर उनके घर रात्रि भोजन के लिए पहुंचा था. इस दौरान अन्य प्राथमिकी अभियुक्त भी मौजूद थे. भोजन के बाद सभी लोग भवानीपुर शमदा की ओर चले गये. इसके बाद से सोनू का मोबाइल भी बंद आने लगा. बताया कि काफी समय बीत जाने के बाद भी जब कोई वापस नहीं लौटा और सोनू का मोबाइल भी ऑन नहीं हुआ, लोगों की आशंका गहराती गयी. अध्यक्ष रंजू देवी ने कहा है कि पूर्व में भी विधायक नीरज कुमार बबलू द्वारा उनके भाई सोनू सिंह बबन सिंह को जान से मारने की धमकी दी गयी थी. आशंका व्यक्त करते हुए कहा कि सोनू हत्याकांड इसी का परिणाम है।

विरोधियों को चुन-चुन कर अभियुक्त बना रही हैं जिप अध्यक्ष : बबलू
हालांकि विधायक नीरज कुमार सिंह बबलूने प्राथमिकी की जानकारी से ही इनकार किया. उन्होंने बताया कि मीडियाकर्मियों के माध्यम से ही उन्हें प्राथमिकी की जानकारी मिली है. जिला परिषद अध्यक्ष के भाई सोनू की मौत हुई है, ऐसे में उनकी सहानुभूति परिजनों के साथ है. लेकिन हत्याकांड से उनका कोई वास्ता नहीं है.  विधायक ने कहा है कि जाहिर है परिजन की हत्या हो जाने से किसी का भी मन विचलित हो जाता है. फिलहाल जिप अध्यक्ष का भी मानसिक संतुलन ठीक नहीं है. वह विधायक को अपना राजनीतिक विरोधी मानती हैं और यही कारण है कि सभी विरोधियों को चुन-चुन कर उनके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करवायी जा रही है. विधायक ने स्पष्ट किया कि अनुसंधान करना पुलिस का काम है. मांग किया कि इस मामले में भी पुलिस को दूध का दूध और पानी का पानी करना चाहिए. वे पुलिस को हर सहयोग करने के लिए तैयार हैं.
     वीरपुर थानाध्यक्ष सुरेश कुमार राम ने बताया कि मामला काफी हाई प्रोफाइल है. जिसके कारण पुलिस सभी बारीकियों पर नजर रख रही है. प्राप्त आवेदन के आलोक में कांड दर्ज कर लिया गया है. हालांकि अब तक पुलिस को हत्याकांड के बाबत साक्ष्यों की तलाश है. साक्ष्य के अनुरुप सभी दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई सुनिश्चित की जायेगी.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...