07 नवंबर 2016

छठ महापर्व : सुपौल के सदर अस्पताल में बंद रहीं ओपीडी सेवा, निराश लौटे मरीज

सुपौल। लोक आस्था का महापर्व छठ पूजा को लेकर सूबे के सभी सरकारी अस्पताल और पीएचसी को चौबीस घंटे उपचार के लिये मुस्तैद रहने का आदेश जारी किया गया था.

वहीं जिले के सदर अस्पताल में सोमवार को ओपीडी सेवा पूरी तरह ठप रही. ओपीडी सेवा बंद रहने के कारण सैकड़ों मरीज निराश होकर अस्पताल से वापस लौट गये. वहीं आम लोगों में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की यह कारगुजारी चर्चा का विषय बना हुआ है.
     बता दें कि राज्य सरकार के द्वारा छठ पूजा की तैयारी को लेकर पूर्व में ही सभी जिले के जिलाधिकारी को छठ पूजा के दौरान सदर अस्पताल एवं पीएचसी में इलाज की मुकम्मल व्यवस्था बहाल कर चिकित्सक एवं स्वास्थ्य कर्मियों के साथ तत्पर रहने का निर्देश जारी किया गया था. जिलाधिकारी ने इस बाबत दिनांक 04 नवंबर को संयुक्त आदेश करते हुए सिविल सर्जन सुपौल को जिला अंतर्गत सभी अस्पतालों में आकस्मिक चिकित्सा व्यवस्था तैयार रखने और इसके अतिरिक्त चिकित्सक एवं पारा मेडिकल कर्मी के भ्रमणशील दस्तों की भी प्रतिनियुक्त करने का आदेश जारी किया था.
     लेकिन सरकार और जिलाधिकारी से इतर सिविल सर्जन व सदर अस्पताल के उपाधीक्षक ने सोमवार को मनमर्जी करते हुए सदर अस्पताल को आम रोगियों के लिये बंद कर दिया. ज्ञात हो कि रविवार को सदर अस्पताल में ओपीडी सेवा नियमित रूप से बंद रहती है. दूर-दराज से आने वाले गरीब रोगी जो खुले बाजार से दवा खरीदने में असमर्थ होते हैं, उनका उपचार सदर अस्पताल के ओपीडी में मिले मुफ्त दवाई पर ही निर्भर है. लेकिन सोमवार को ऐसे सैकड़ों मरीज निराश होकर अस्पताल से लौट गये. इस संबंध में अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ एनके चौधरी ने बताया कि सिविल सर्जन से मिले आदेश के बाद अस्पताल के ओपीडी सेवा को बंद किया गया है. मंगलवार को ओपीडी सेवा अपने नियमित समय पर उपलब्ध रहेगा.
       जिला पदाधिकारी सुपौल बैद्यनाथ यादव ने कहा कि सदर अस्पताल में ओपीडी सेवा बंद रखने का कोई औचित्य नहीं है। मामले की जांच की जायेगी। दोषी अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी.
(Report: Ashok Yadav, Sub-Editor)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...