07 नवंबर 2016

नदी में तैर रहे युवक को माँ ने अर्घ्य के लिए दी आवाज, पर बेटे की आई मौत

जिस बेटे के खुशी की खातिर माँ सूर्योपासना का महापर्व छठ करे और यदि उस बेटे की आँखों के सामने मौत हो जाये तो समझ सकते हैं कि माँ पर क्या गुजर रही होगी.
कुछ ऐसा ही जिले के चौसा प्रखंड के फुलौत ओपी क्षेत्र के अजगेबा में हुआ. आज चौसा प्रखंड में छठ का महापर्व उदयगामी सूर्य को अर्ध्य देने के साथ शांति पूर्ण संपन्न हो गया, लेकिन साथ ही अर्ध्य देने गए एक 18 वर्षीय युवक की पानी में डूबने से मौत हो गई. आज सुबह अपनी माँ को अर्ध्य देने पहुंचे मोरसंडा पंचायत के वार्ड नं. 2 के अजगैबा निवासी मुरारी कुमार साह 18 वर्ष की पानी में डूबने से मौत के बारे में कहा जाता है कि मुरारी ने सोचा कि जब तक अर्ध्य देने का समय होगा तब अर्ध्य देंगे तब तक तालाब में तैर कर स्नान  कर लिया जाय. माँ हाथ जोड़ कर सूर्य भगवान के निकलने का इंतजार कर रही थी. मुरारी खुशी खुशी पानी में तैर रहा था. सूर्योदय हुआ और उसके परिजन मुरारी को आवाज देने लगे. माँ को अर्ध्य देने वापस आ ही रहा था कि बीच में वह डूब गया.
    डूब जाने की ख़बर मिलते ही माँ पार्वती का खुशी एक पल में ही काफूर हो गई और अपनी छाती पीट पीट कर इतना ही कहा रही थी कि" हमरो बेटा कय बुलाओ,सूर्य भगवान निकलेय अर्ग देतेय". पर उसे कौन समझाए की मुरारी अब इस दुनियां में नहीं है और अब अपनी माँ को कभी भी अर्ध्य नही दे पायेगा.
       घटना की सूचना मिलते ही बीडीओ मिथिलेश बिहारी वर्मा, थाना अध्यक्ष सुमन कुमार सिंह मौके पर पहुँचे कर गोताखोर की मदद से मुरारी को पानी से खोज निकाला. फुलौत ओपी अध्यक्ष राजेश कुमार ने शव को अंत्यपरीक्षण के लिये मधेपुरा सदर अस्पताल भेज दिया. बताया जाता है पढ़ने लिखने में काफी अच्छा था वह इस बार इंटर के परीक्षा में शामिल होता पर भगवान को शायद कुछ और ही मंजूर था.
(रिपोर्ट: आरिफ आलम)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...