06 नवंबर 2016

अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य के साथ ही लोक आस्था के महापर्व छठ का तीसरा दिन संपन्न

अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य के साथ ही आज मधेपुरा में लोक आस्था के महापर्व छठ का तीसरा दिन श्रद्धापूर्वक सुरक्षित ढंग से संपन्न हो गया.


मधेपुरा में लोक आस्था के महापर्व छठ पूजा को 192 घाटों पर मनाया जा रहा है. जिले पांच जगहों पर बैरिकेटिंग की खास व्यवस्था की गई है और पूरे जिले में छठ के दौरान सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम जिला प्रशासन के द्वारा किये गए हैं. 

भीड़ वाले जगहों, जहाँ छठ के घाट बनाये गए हैं, वहीं से गुजरने वाली सड़कों से इस दौरान बड़ी वाहनों के परिचालन पर जिला प्रशासन ने रोक लगा दी है. 

      बता दें कि मधेपुरा के भिरखी घाटों के अलावे गुमटी घाट और सुखासन घाट पर कड़ी सुरक्षा के  इंतजाम हैं और जिला प्रसासन के अधिकारी समेत डी एम और एसपी खुद विभिन्न घाटों का दौरा लगातार आज शाम छठ पूजा के दौरान भी करते रहे. 

जिले के कई घाटों पर एसडीआरएफ (स्टेट डिजास्टर रिस्पांस फ़ोर्स) की टीमें मोटरबोट से नदी और तालाबों में सुरक्षा के वास्ते घूमती रही. जिले के सिंहेश्वर मंदिर स्थित शिवगंगा के घाटों की सजावट अभूतपूर्व की गई थी और सुरक्षा के भी ख़ास इंतजाम थे. 

नहाय-खाय और खरना के बाद आज तीसरे दिन शाम को घाटों पर छठ व्रतियों ने भगवान भास्कर को अर्घ्य देकर नमन किया और अपनी-अपनी मन्नते भी मांगी. .कहा जाता है कि सच्चे मन से जो भक्त छठ मैया से मन्नते मांगते है उनकी मन्नते अवश्य पूरी होती है. कल सुबह उदीयमान सूर्य को अर्घ्य के साथ की आस्था के इस महापर्व का समापन हो जाएगा.

मधेपुरा के सबसे बड़े घाट भिरखी घाट पर छठ मनाने का पूरा वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें.
(MT Team)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...