04 नवंबर 2016

दबंगों ने महादलित बस्ती पर बोला हमला, तीन महिला सहित आधा दर्जन जख्मी


सुपौल जिले में दर्जनों की संख्या में दबंगों ने महादलित बस्ती पर दबंगई कर महादलितों को जम कर पीटा और घर के सामान लूट कर चलते बने.
छातापुर थाना क्षेत्र अंतर्गत राजेश्वरी ओपी क्षेत्र के तमुआ में इस घटना में तीन महिला सहित आधा दर्जन लोग जख्मी हो गए. इस दौरान हमलावरों ने घरों में लूट पाट करते भारी उत्पात मचाया. किसी तरह जान बचा कर छातापुर थाना पहुंचे महादलित परिवारों को उपचार के लिए पीएचसी छातापुर में भर्ती कराया गया.
      उपचाररत जख्मियों ने ओपी पुलिस को इस घटना के लिए जिम्मेवार बताया है. बताया कि दर्जनों की संख्या में दबंगो द्वारा धावा बोलने के बाद ओपी पुलिस को मोबाइल से घटना की सूचना दी गयी, लेकिन पुलिस पांच घंटे बिलंब से पहुंची. तब तक हमलावरों ने महिलाओं के साथ मारपीट करते हुए घरों में रखे सभी समान लूट लिए. कहा कि लूट पाट के दौरान इंदिरा आवास का निर्माण के लिए रखे छड़, बालू, गिट्टी, ईट,सहित सभी घरेलू सामग्री लूट कर साथ लाये ट्रैक्टर  पर लाद कर ले गये. बताया कि मारपीट लूट-पाट की घटना को अंजाम देने के बाद उनलोगों ने जान से मारने महिलाओं की आबरू लूट लेने की धमकी दी. महादलितों ने कहा कि बस्ती के सभी पुरूष सदस्य रोजी रोजगार के लिए बाहरी प्रदेश में हैं. ऐसी स्थिति में हमले के बाद सभी महिला बच्चों में  दहशत का माहौल बना हुआ है. पीड़ितों ने बताया कि जान बचा कर जब वे लोग छातापुर थाना पहुंचे तो पाया कि दबंगों ने उन लोगों का थाना तक पीछा किया.

पुलिस पर लगा लापरवाही का आरोप: बस्ती निवासी एससी एसटी जाति के अनुमंडल निगरानी समिति के सदस्य जय नारायण ऋषिदेव सहित अन्य महादलितों ने कहा कि ओपी पुलिस को प्रभाव में लेकर दबंगो ने घटना को अंजाम दिया है. यही वजह है कि क्राईम मीटिंग के दिन ही घटना को अंजाम देने का सही समय तय किया गया. बताया कि घटना की सूचना के बाद पांच घंटे विलंब से पुलिस पहुंची और मामूली रूप से पूछताछ कर निकल गये. जिसका नतीजा रहा कि सभी हमलावर सुनियोजित तरीके से घटना को अंजाम देने में सफल रहे. महादलितों ने कहा कि जिस जमीन पर महादलित परिवार दशकों से घर बना कर रहते हैं और उसका पर्चा भी प्राप्त है, उस जमीन को दबंग अपनी जमीन बता कर बस्ती को उजारना चाहते हैं.

कहते हैं थानाध्यक्ष:  इस बाबत पूछने पर थानाध्यक्ष शैलेंद्र कुमार मिश्र ने बताया कि पीड़ित परिवारों से प्राप्त आवेदन को अग्रेतर कार्रवाई के लिए राजेश्वरी ओपी पुलिस को भेज दिया गया है. अग्रसारित आवेदन प्राप्त होते ही प्राथमीकि दर्ज कर आगे की कार्रवाई प्रारंभ की जायेगी.
(Report: Ashok Yadav, Sub-Editor)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...