13 अक्तूबर 2016

बिहारीगंज में शांति समिति की बैठक के बाद तीसरे दिन उपद्रवियों को नियंत्रित करने के लिए चली पुलिस की लाठियां और छोड़े गए अश्रुगैस के गोले, थानाध्यक्ष सस्पेंड

मधेपुरा जिले का बिहारीगंज तीसरे दिन भी कई घंटे अशांत रहा. आज पुलिस ने अराजकता फैलाने के आरोप में कई दर्जन लोगों को हिरासत में लिया. मामला एक बार इतना बिगड़ा कि पुलिस को जमकर लाठियां चलानी पड़ी और अश्रुगैस के गोले भी छोड़े गये. हालाँकि मधेपुरा के जिलाधिकारी समेत पहुंचे जनप्रतिनिधियों के समूह ने शान्ति बहाल करने की पुरजोर कोशिश की है और आज उपद्रव के बाद भी बाजार घूम-घूमकर शान्ति और भाईचारे की अपील की गई.
            दो दिनों से दो समुदायों के बीच चल रहे तनाव को शांत कराने आज मधेपुरा के जिलाधिकारी मो० सोहैल, पुलिस अधीक्षक विकास कुमार तथा अन्य कई अधिकारियों के अलावे मधेपुरा सांसद राजेश रंजन उर्फ़ पप्पू यादव, बिहार के आपदा मंत्री प्रो० चंद्रशेखर, पूर्व मंत्री विधायक नरेंद्र नारायण यादव, बिहारीगंज विधायक निरंजन मेहता, पूर्व विधायक किशोर कुमार मुन्ना, पूर्व मंत्री डॉ रविन्द्र चरण यादव, छातापुर विधायक नीरज कुमार बबलू आदि बिहारीगंज पहुंचे. जिसके बाद शांति समिति की एक बैठक आयोजित की गई जिसमें सबों ने अपनी बातें रखी और माहौल को शांत कराने की अपील की गई. तत्काल एक्शन लेते हुए बिहारीगंज के थानाध्यक्ष राजेश कुमार को निलंबित कर दिया गया. बैठक में मांग पर उदाकिशुनगंज के एसडीपीओ रहमत अली पर कार्रवाई का आश्वासन दिया गया. पूरी घटना में दोषी सभी लोगों और अधिकारियों पर भी कड़ी कार्यवाही की बात कही गई.
          पर दो दिनों के उपद्रव के बाद आज भी शायद असामाजिक तत्व बिहारीगंज को शांत होने नहीं देना चाहते थे. बताया गया कि इधर शांति समिति की बैठक चल रही थी और असामाजिक तत्व हरकत में आ गए थे. बैठक के बाद जैसे ही अधिकारी और जनप्रतिनिधि बाजार की तरफ बढ़े अराजक तत्वों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी, जिसमें अधिकारी और सांसद समेत कई जनप्रतिनिधियों को चोटें आने की सूचना है. इसके बाद पुलिस बल ने जमकर उपद्रव करने वालों पर लाठियां चलाई और अश्रू गैस के गोले छोड़े. इस दौरान करीब 40 लोगों को हिरासत में लिया गया है. इसके बाद फिर जनप्रतिनिधियों ने बाजार घूमकर शांति मार्च किया है और लोगों से शान्ति की अपील की है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...