26 अक्तूबर 2016

‘विपक्ष के नेता बिहारीगंज में भड़काऊ बयान देने से परहेज करें’

मधेपुरा जिले के बिहारीगंज के विधायक द्वारा मंगलवार को मुरलीगंज प्रखंड अंतर्गत प्रदेश सचिव युवा राजद के आवास पर एक गठबंधन के कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई गई.
इस बैठक का उद्देश्य के उद्देश के बारे में उन्होंने बताया कि आगामी 16 नवम्बर को सिगयान पंचायत में ढाई किलो मीटर के एक रोड का शिलान्यास होना है, इसलिए इसीलिए यह  बैठक बुलाई गई थी.
       उन्होंने बताया कि मेरा अगला कार्यक्रम जिला पदाधिकारी से मिलकर बिहारीगंज फैले तनाव  में निर्दोषों  को जांच के उपरांत दोष मुक्त कर देने की बात जिला पदाधिकारी से करना है. बताया कि आगे दिवाली और छठ है ऐसे में जो लोग इन जातियों दंगे में कहीं से भी जिम्मेदार नहीं है, उन्हें मुक्त करने के लिए मैं जिला पदाधिकारी से अनुरोध करूंगा. उन्होंने बताया कि अब बिहारीगंज का माहौल बिल्कुल सामान्य हो चुका है ऐसे में विपक्षी दलों के नेताओं द्वारा वहां बेवजह भड़काऊ बयान देने से परहेज करना चाहिए.  जिस समय उन्हें आना था और जातीय उन्माद को शांत करना था उस  तो वो आए, नहीं आज शांत माहौल में भड़काऊ भाषण देकर प्रशासन के लिए एक नई चुनौती खड़ी करने वाली बात हो रही है. उन्होंने कहा कि बिहारीगंज दंगे में की गई दर्ज प्राथमिकी में इस बात का उल्लेख है कि राजनेताओं द्वारा प्रतिक्रिया पूर्ण भाषण देने से शांति स्थापित करने में कठिनाई उत्पन्न हुई है. अगर रेणु कुशवाहा को दंगा पीड़ित क्षेत्र का दौरा करना ही था तो खगड़िया से मात्र 3 घंटे में बिहारीगंज पहुंच कर उस समय जनता के बीच अपनी उपस्थिति और शांति स्थापित करने में मदद कर सकती थी. ऐसा उन्होंने नहीं किया बिहारीगंज पहुंचकर बेतुका बयान जारी करना गलत है.
     प्रदेश युवा राजद सचिव दिनेश मिश्र ने बताया कि अभी विपक्षी पार्टियों के बड़े-बड़े राज्य स्तरीय नेताओं के बिहारीगंज दंगा पीड़ित क्षेत्रों के भ्रमण का कोई उद्देश ही नहीं है, क्योंकि स्थानीय विधायक एवं स्थानीय मंत्री प्रशासन के सहयोग से मामले को पूरी तरह खत्म कर दिया गया है और जहां तक निर्दोषों को फसाए जाने की बात है जांचोपरांत उन्हें दोष मुक्त कर दिया जाएगा ऐसा जिला प्रशासन एवं माननीय मंत्री का भी मानना है.
(रिपोर्ट: संजय कुमार)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...