27 सितंबर 2016

सायबर क्राइम इन्वेस्टीगेशन में प्रशिक्षण प्राप्त हैं मधेपुरा के नए एसडीपीओ पोलस्त कुमार

मधेपुरा में नए एसडीपीओ (मुख्यालय) ने अपना योगदान कर दिया है और कई महीने से खाली इस पद पर एसडीपीओ पोलस्त कुमार के आते ही अब मधेपुरा पुलिस के और भी सक्रिय होने की सम्भावना नजर आने लगी है.
            इंटरनेट के बढ़ते प्रयोग और जिले में हो रहे लगातार सायबर क्राइम को देखते हुए सोमवार के डीएसपी मुख्यालय मधेपुरा के रूप में पदभार सँभालने वाले पोलस्त कुमार से जिले को अधिक उम्मीदें इस लिए है कि एसडीपीओ श्री कुमार ने अर्बन ऑपरेशन तथा साइबर क्राइम आदि में विशेष प्रशिक्षण प्राप्त किया है.
पटना से ग्रैजुएशन तथा उसके बाद दिल्ली में संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा की तैयारी करते पोलस्त कुमार ने दो बार सिविल सेवा का इंटरव्यू भी दिया. इसी दौरान इनका चयन बिहार लोक सेवा आयोग के द्वारा डीएसपी के लिए हुआ.
     बिहार के नालंदा जिला मूल निवासी पुलिस अधिकारी पोलस्त कुमार प्रशिक्षण के दौरान सहरसा, सिमरीबख्तियारपुर अदि जगहों पर भी रहे और मधेपुरा आने से पहले नार्थ ईस्ट पुलिस अकेडमी मेघालय में 1 महीना का विशेष प्रशिक्षण प्राप्त किया, जिसमे बिहार से मात्र 5 अधिकारियों का ही चयन हुआ था.
    नेशनल पुलिस अकेडमी हैदराबाद से आई टीम के द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त पोलस्त कुमार ने अर्बन ऑपरेशन, साइबर क्राइम आदि में विशेष प्रशिक्षण प्राप्त किया है. जिससे जिले में एटीएम से रूपये निकालने से लेकर अन्य तरह के सायबर क्राइम  के इन्वेस्टिगेशन में मधेपुरा पुलिस को और अधिक मदद मिल सकती है.
मधेपुरा में योगदान करने के बाद एसडीपीओ पोलस्त कुमार ने आज मधेपुरा टाइम्स से बातचीत में कहा कि अपराध नियंत्रण उनकी पहली प्राथमिकता होगी. विधि-व्यवस्था संधारण के साथ पीपुल्स फ्रेंडली पुलिसिंग पर उनका विशेष जोर रहेगा. युवा वर्ग को वे साथ लेकर चलना चाहेंगे और लोगों से अपील करेंगे कि उनके क्षेत्र में जो भी घटनाएँ होती हैं, उनकी त्वरित सूचना पुलिस को दें ताकि समय पर कार्रवाई की जा सके. इसके अलावे अन्य लोगों सहित समाज के कमजोर वर्गों और महिलाओं को न्याय दिलाने में उनका विशेष ध्यान रहेगा.  

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...