30 सितंबर 2016

सैंकड़ों घरों में घुसा बारिश का पानी, जुगाड़ टेक्नोलॉजी के सहारे यातायात को मजबूर लोग

मधेपुरा में इन दिनों रुक रुक कर लगातार हो रही बारिश  के कारण नगर परिषद् के कई मुहल्ले की  सूरत बदल चुकी है. नगर परिषद् के सैकड़ों घरों में बारिश का पानी घुसा और हजारो लोगों की जिन्दगी नारकीय हो गई. चचरी के सहारे यातायात को मजबूर हैं नगरवासी.
       लगातार हो रही रिमझिम बारिशों ने नगर परिषद् के कई वार्डों में बाढ़ जैसे हालात पैदा कर दिए हैं.
कमो-बेश नगर परिषद् के सभी मुहल्लों का एक ही जैसा हाल है. गुलजार बाग़ से लेकर रहमानगंज तक स्थिति है बेहद ख़राब तो लोगों को घरों से निकलना भी हो रहा है मुश्किल. नगर परिषद् और जिला प्रशासन भी कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं. तत्काल नगरवासी जुगाड़ टेक्नोलाजी के सहारे जीवन यापन को हो रहे मजबूर. वहीँ जिलाधिकारी मो.सोहैल ने कहा जिला मुख्यालय समेत नगर परिषद् के इन कई वार्डों में पम्प सेट के सहारे पानी की निकासी की जा रही है, जल्द ही स्थिति सामान्य हो जाएगी.
मधेपुरा नगर परिषद् के वार्ड संख्या 13 रहमानगंज और गुलजार बाग़ मोहल्ले का नजारा देखकर सिहरन सी होने लगती है, जहाँ इन दिनों लगातार हो रही बारिशों के कारण सैकड़ों घरों में घुसा है पानी.
पिछले एक सप्ताह से है भयंकर रूप से ये इलाका जलमग्न. जानकारी के अनुसार नगर परिषद् क्षेत्र में करोड़ों की लागत से पिछले वर्ष नाला निर्माण तो किया गया लेकिन फिर भी जल निकासी की कोई व्यवस्था नहीं हो प् रही है. कई लोगों ने नगर परिषद के अधिकारी और मुख्य पार्षद पर आरोप लगते कहा कि नाला निर्माण के नाम पर करोड़ों की राशि का बन्दर बाँट किया गया है. मधेपुरा समाहरणालय के पीछे बसा पूरा मुहल्ला बारिश के पानी से जलमग्न है. लोगों को अपने घर से आने-जाने का कोई रास्ता नहीं है. मुहल्ले वालों ने जुगाड़ टेक्नॉलोजी का सहारा लेकर एक सौ फीट से ज्यादा लम्बा बांस की चचरी बना लिया है. चचरी के सहारे घरों से स्कूली बच्चे भी जान जोखिम में लेकर स्कूल जा रहे हैं. जल निकासी की व्यवस्था नहीं होने से वार्ड वासी में जिला प्रशासन और नगर परिषद् के प्रति आक्रोश देखा जा रहा है. मो. अब्दुल जब्बर, मो. अनवर हुसेन, मो.सरफराज आलम, बीबी नूर होदा, सबीना खातून आदि लोगों की माने तो नगर परिषद् सिर्फ धन निकासी करने वाली एक संस्था बनकर रह गयी है. एक सप्ताह बीत जाने के बावजूद भी नहीं हो रही है जल निकासी की कोई व्यवस्था.
   हालाँकि जिलाधिकारी मो. सोहैल ने मधेपुरा टाइम्स को बताया कि खाशकर मधेपुरा में आठ घंटे में 140 एम एम बारिश की रिकॉर्ड दर्ज की गयी है जो नॉर्मली पूरे महीने की बारिश का आधा से ज्यादा है. वार्ड संख्या 05, वार्ड संख्या 13 के अलावे कई मोहल्ले में पम्प सेट के सहारे पानी निकाशी की व्यवस्था की जा रही है. चूंकि अत्यधिक बारिश के कारण पानी ज्यादा लगा है इसलिए थोड़ा समय जरुर लगेगा. चिंता की कोई बात नहीं है एक दो दिन में स्थिति सामान्य हो जाएगा.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...