26 सितंबर 2016

नीतीश की शराबबंदी को गहरा धक्का: हरियाणा से ट्रक के द्वारा लाई शराब की बड़ी खेप सुपौल में, साईकिल के पार्ट्स में छुपे 5424 बोतल विदेशी शराब बरामद

सुपौल जिले के सदर थाना पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर जगतपुर-वीणा मुख्य पथ पर अंग्रेजी शराब लदी एक ट्रक को जब्त कर लिया है. जब्त ट्रक की तलाशी के बाद पुलिस अधिकारियों के होश उड़ गए थे. ट्रक से पुलिस ने 5424 बोतल विदेशी शराब बरामद किया है. जब्त शराब हरियाणा प्रदेश निर्मित बताई जाती है. शराब माफिया द्वारा शराब की इस खेप को ट्रक में साइकिल पार्ट्स और टायर-ट्यूब के बीच छिपा कर सुपौल लाया गया था. पुलिस ने शराब की इस खेप के साथ करीब 25 लाख रुपये मूल्य का साइकिल पार्ट्स को भी जब्त किया है.
              सरकार की शराबबंदी को धता बताते हुए इतनी बड़ी मात्रा में बिहार में बरामद की गई जब्त शराब की कीमत करीब 25 लाख रुपये आंकी जा रही है. शराब लदी ट्रक को छोड़ कर फरार हुए ट्रक के चालक जगजीत सिंह उप चालक जितेंद्र सिंह को पुलिस ने मुजफ्फरपुर जिले के अहियापुर थाना क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया है. समाचार प्रेषण तक पुलिस टीम गिरफ्तार चालक और उपचालक को लेकर सुपौल नहीं पहुंची थी.
      भारी मात्रा में शराब बरामदगी को लेकर प्रभारी पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार सिन्हा ने बताया कि सदर थाना पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि गोठ बरुआरी पंचायत स्थित जगतपुर गांव में एक ईंट चिमनी के पास एक ट्रक से भारी मात्रा में शराब अनलोड किया जा रहा है. सूचना के बाद थानाध्यक्ष राम इकबाल यादव पुलिस बलों के साथ मौके पर पहुंचे. वहां पहुंचने पर कुछ लोगों ने बताया कि एक लोड ट्रक कुछ देर पूर्व वीणा की ओर तेजी से निकला है. थानाध्यक्ष द्वारा लोगों से मिली जानकारी के आधार पर ट्रक का पीछा किया गया और वीणा रोड से लावारिश हालत में ट्रक को बरामद कर थाना लाया गया. वहीं सदर थानाध्यक्ष ने मामले का वैज्ञानिक अनुसंधान करते हुए ट्रक छोड़ कर भाग रहे चालक और उप चालक को मुजफ्फरपुर पुलिस के सहयोग से गिरफ्तार कर लिया है.
     प्रभारी एसपी ने बताया कि शराब की इस बड़ी खेप को मंगवा कर शराब माफिया जगतपुर गांव से छोटी-छोटी वाहनों में भर कर जिले के अन्य भागों के लिए डिस्पैच करने की तैयारी में जुटे हुए थे. लेकिन पुलिस ने ससमय कार्रवाई कर उनके इरादों को नाकाम कर दिया. प्रभारी एसपी ने बताया कि पूर्णत: शराबबंदी लागू होने के बाद जिले में पहली बार इतनी बड़ी मात्रा में शराब के खेप को जब्त किया गया है. बताया कि पुलिस इस मामले की गहराई से छानबीन कर रही है. चालक उपचालक से पूछताछ के बाद इस रैकेट से जुड़े लोगों का परदाफाश होगा तथा उनके विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जायेगी.

थाना पर लगा लोगों का जमावडा:  भारी मात्रा में शराब जब्त होने की सूचना जिला मुख्यालय में फैल चुकी थी।ट्रक पर साइकिल पार्टस के बीच छिपा कर रखे गये करीब तीन सौ पेटी शराब को देखने के लिए सदर थाना पर लोगों का जमघट लग गया था. सदर थाना पुलिस लोगों की भीड़ को ट्रक के पास से हटाने के लिए मशक्कत कर रही थी. वहीं ट्रक से शराब की पेटी अनलोड करने के लिए करीब एक दर्जन मजदूरों को लगाया गया था. चार घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद मजदूर ट्रक से साइकिल पार्टस हटा कर शराब की पेटी को सुरक्षित अनलोड करने में सफल रहे. वहीं भारी मात्रा में जब्त शराब की जब्ती सूची बनाने में भी पुलिस अधिकारियों के पसीने छूट रहे थे.  

शराबबंदी को गहरा धक्का: आज की घटना यह दर्शाने के लिए काफी है कि शराब माफियाओं ने बिहार में शराब आपूर्ति करने और बेचने के लिए कितने तरीके अपना रखे हैं. सूत्रों का मानना है कि लगभग पूरे बिहार में शराब अब भी मिल रही है और अधिक पैसे खर्च करने वाले आराम से घर बैठकर न सिर्फ पी रहे हैं बल्कि पार्टियों में भी शराब परोसी जा रही है. पुलिस अधिकतर देशी शराब के पुश्तैनी कारोबार से जुड़े आदिवासियों तथा अन्य लोगों को पुलिस पकड़ कर जेल भेज रही है और सरकार अपनी पीठ खुद थपथपा रही है. 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...