13 सितंबर 2016

शांति और सौहार्द के वातावरण में मनाया गया ईद-उल-जुहा (बकरीद)

मधेपुरा में मुस्लिमों का महत्वपूर्ण त्यौहार ईद-उल-जुहा (बकरीद) (अरबी में ईद-उल-अज़हा यानि क़ुरबानी की ईद) शांति और सौहार्द के वातावरण में मनाया गया. 
     बकरीद के मौके पर जिले भर में अधिकाँश जगहों पर ईदगाह में इकठ्ठा होकर विशेष नमाज अदा की गई.  नमाज के बाद लोगों ने आपस में गले-गले मिलकर एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी. कई जगह मौके पर हिन्दू समाज के भी लोगों ने ईदगाह पहुंचकर अपने दोस्तों और अजीज से गले मिलकर उन्हें ईद की मुबारकबाद दी. इस अवसर पर कई ईदगाह के समीप मेला का भी आयोजन किया गया जहां महिलाऐं और बच्चों में खरीददारी के प्रति खासा उत्साह देखा गया. कुर्बानी के इस त्यौहार पर जिले भर में शान्ति व्यवस्था बनाये रखने के लिए जिला प्रशासन के अधिकारी तथा पुलिस बल सक्रिय थे.
        मधेपुरा स्थित पुरानी ईदगाह पर इस मौके पर बड़ी संख्यां में नमाज अदा करने लोग जमा हुए. मधेपुरा के जिलाधिकारी मो० सोहैल, सूबे के आपदा मंत्री प्रो० चंद्रशेखर आदि ने भी ईद उल-अजहा के अवसर पर लोगों से गले मिलकर उन्हें मुबारकबाद दी. मौके पर कई अन्य गणमान्य व्यक्तियों समेत विभिन्न दलों के नेता और जनप्रतिनिधि भी उपस्थित थे.
     शांति और सौहार्द पूर्ण माहौल में बकरीद के त्योहार को मनाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा चाक चौबंद व्यवस्था की गई थी और हर ईदगाह पर पुलिस एवं दंडाधिकारी की तैनाती की गई थी. जिले भर में बकरीद का त्यौहार शांतिपूर्ण तरीके से मनाया गया. कहीं से कोई अप्रिय घटना के समाचार नहीं हैं.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...