04 सितंबर 2016

मधेपुरा: मुर्गा व्यापारी द्वारा बड़े पैमाने पर ठगी का मामला उजागर

मधेपुरा जिले के चौसा में एक मुर्गा व्यापारी द्वारा मुर्गा फार्म के संचालक से बड़े पैमाने पर ठगी  करने का मामला प्रकाश में आया है. ठगी का पता चलने पर मुर्गा फ़ार्म संचालक ने व्यापारी का वाहन और डिजिटल तराजू जब्त कर चौसा के प्रखंड विकास पदाधिकारी मिथिलेश बिहारी वर्मा को कार्यवाही के लिए लिखित आवेदन दिया है।.
     बताया गया कि ताजा मामले में फार्म से थोक भाव में मुर्गा खरीदने का काम मंटू पौद्दार और मुकेश साह किया करते थे. यह कार्य पिछले कई साल से दोनों व्यापारी किया करते थे. व्यापारी के पास मुर्गा फार्म से मुर्गा मापने का जो डिजिटल तराजू था वह प्रति दस किलो में आठ सौ ग्राम कम मापता था और दुकानदार को दूसरे तराजू से माप कर मुर्गा बेचने का काम करता था. जिस तराजू से दुकानदार को मुर्गा बेचने का काम करता था वह तराजू माप में अधिक होता था.
      मुर्गा फार्म के संचालक अभिषेक कुमार राणा, विमल पासवान, सुभाष पासवान, गोनर पासवान, सिन्टू पासवान, ब्रजेश पासवान, विकास पासवान, बिरेन्द्र कुमार बीरू, विजय पासवान ने बताया कि मुर्गा व्यापारी पिछले कई वर्षों से इस तरह का गोरखधंधा करने का काम हम सभी मुर्गा पालक से किया करता था. यह बात तब सामने आया जब इसके पास दो तराजू देखा गया. एक तराजू में कम और दूसरे में अधिक वजन फिक्सड् किया हुआ था. जब दोनों तराजू से मुर्गा मापा गया तो हम लोग आश्चर्यचकित हो गये.
    मुर्गा पालकों ने बताया कि मुर्गा व्यापारी ने अब तक हमलोगों को लाखों रूपये का नुकसान दे गया. आक्रोशित मुर्गा फार्म के संचालकों ने मुर्गा व्यापारी के वाहन को जब्त कर लिया है पर व्यापारी फरार हो गया है. आवेदन पर प्रखंड विकास पदाधिकारी मिथिलेश बिहारी वर्मा एवं चौसा थाना के सहायक अवर निरीक्षक सच्चिदानंद सिंह ने त्वरित कार्रवाई करते हुए मुर्गा व्यापारी का मीटर जब्त कर लिया है. 
    जो भी हो, पर एक बात और तय है कि बाजार में मुर्गा समेत अन्य सामानों को खरीदते समय भी सावधानी की जरूरत है क्योंकि हो सकता है ये कम तौलकर आपको चूना लगा रहे हों.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...