29 अगस्त 2016

फर्जी शिक्षक को बचाने के नाम पर जिले में चल रहा है मोटी रकम का बड़ा खेल?

एक तरफ जहाँ सूबे में फर्जी शिक्षक नियुक्ति मामले में सीबीआई जांच प्रक्रिया को लेकर कोसी सहित सीमांचल में हलचल मची है वहीँ मधेपुरा जिले के कई फर्जी शिक्षकों में बैचेनी बढती जा रही है.
   सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जिले के मुरलीगंज प्रखंड कुमारखंड, बिहारीगंज, उदाकिशुनगंज और सदर प्रखंड के कई ग्रामीण इलाकों में शिक्षक नियुक्ति मामले को लेकर फर्जी शिक्षकों को बचाने के नाम पर मोटी रकम की उगाही करने का मामला प्रकाश में आ रहा है, जबकि फर्जी शिक्षक नियुक्ति मामले में वर्ष 2003-04 और वर्ष 2005-06 में पहले हीं विभिन्न पंचायतों में भारी मात्रा में गड़बड़ी किये जाने का मामला विभिन्न अख़बारों में प्रकाशित होता रहा है. बहरहाल सीबीआई जांच से इन इलाकों के फर्जी शिक्षकों में खलबली सी मच गयी है.
    उधर फर्जी शिक्षक किसी भी तरीके से अपना-अपना पेपर सही करवाने और विभाग के समक्ष रिपोर्ट उनके पक्ष में जमा करवाने की दिशा में जुट चुके हैं. सूत्रों की माने तो इस फर्जीवाड़े के खेल में विभाग और पंचायत से जुड़े कुछ लोगों की अहम् भूमिका मानी जा रही है. हालाँकि फ़िलहाल कोई चेहरा स्पष्ट रूप से सामने नहीं आ रहा है. लेकिन गुप्त रूप से और अत्यंत सावधानी से बिचौलियों के द्वारा इस तरह के गोरखधंधे का बड़ा खेल चल रहा है. जानकारों के मुताबिक पूर्व में बहाल फर्जी शिक्षक अपने मार्कशीट पर अंक बढवाकर बहाली तो करवा लिया लेकिन जब सरकार ने सीबीई को जांच का जिम्मा सोंपा है तो शिक्षा विभाग से जुड़े कुछ लोगों सहित फर्जी शिक्षक की नींद हराम होने लगी है.
     हालाँकि इस बाबत जिलाधिकारी मो सोहैल ने बताया कि अब सीबीई से फर्जी शिक्षकों की जाँच प्रक्रिया चल रही है तो कहीं से कोई बचने का गुंजाइश नहीं है. अगर उगाही का मामला है तो साक्ष्य मिलने पर दोषी के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...