10 अगस्त 2016

पब्लिक के साथ दारोगा की भाषा से शर्मशार बिहार पुलिस

सरकार और प्रशासन भले ही पुलिस को पीपुल्स फैंडली और मे आई हेल्प यू के स्लोगन देने में भरोसा रखे पर सुपौल जिले के किसनपुर थाना पुलिस का असली चेहरा शायद सामने आया है. वाहन चेकिंग के दौरान पुलिसया रौब दिखाते पुलिस ने एक युवक को इतना जलील किया के वे डिप्रेशन का शिकार हो गये है.
    दरअसल मंगलवार को सुपौल भाजयुमो के जिला उपाध्यक्ष जयंत मिश्रा अपने बाइक से सरायगढ जा रहे थे. किसनपुर थाना से पहले पुलिस द्वारा वाहन चेकिंग किया जा रहा था. इसी बीच बाइक सवार को पुलिस ने इशारा करते रूकने को कहा. युवक जैसे ही बाईक से उतरा तो उसने अपना डीएल दिखाया.
पुलिस ने हेलमेट नहीं होने का हवाला देते युवक को चलान के  रूपये जमा करने को कहा. युवक तत्काल पैसे नहीं होने की बार-बार दुहाई देता रहा और पुलिस पुलिसिया रौब दिखाते उसे जलील करता रहा. युवक ने कहा कि वे बगल के एटीएम से पैसे निकाल कर दे रहे हैं लेकिन पुलिस बार-बार उसकी बाईक की चाभी मांगता रहा. इस दौरान उसने युवक को भद्धी-भद्धी गालियां देते लपड़ थप्पड़ भी जड़ दिये.
      युवक ने मधेपुरा टाइम्स को पूरी जानकारी देते हुए बताया कि इस वाक्या का वीडियो उसने खुद बनाया जिसमें किसनपुर थाना की पुलिस अरविन्द सिंह उसके साथ बदसूलकी किया. बताया कि वे इतना अपनामित महसूस कर रहे है कि वे डिप्रेशन का शिकार हो गये हैं.
अब देखना है कि वरीय पुलिस अधिकारी इस तुनक मिजाजी पुलिस पर क्या कार्रवाई करती है?

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...