21 जुलाई 2016

फिर बढ़ा जलस्तर, कोसी पीड़ितों की बढ़ी मुश्किलें

सुपौल । बीते तीन दिनों से कोसी की जारी सामान्य स्थिति के बाद नदी के जलस्राव में एक बार फिर से वृद्धि दर्ज की जा रही है. गुरुवार के दिन के 12 बजे वीरपुर बराज पर कोसी का डिस्चार्ज 01 लाख 90 हजार 515 क्यूसेक अंकित किया गया. जलस्राव में वृद्धि के कारण कोसी के पूर्वी एवं पश्चिमी तटबंध के बीच बसे गांव में स्थिति एक बार फिर से बिगड़ने लगी है. प्रभावित दर्जनों गांवों में बाढ़ का पानी बढ़ने लगा है।जिससे लोगों की कठिनाईयां और भी बढ़ गयी है. इन गांवों में सबसे ज्यादा नाव की कमी को लेकर समस्या उत्पन्न हो रही है.
       अपेक्षित संख्या में नाव नहीं रहने के कारण लोगों को आवागमन में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. बाढ़ से कई गांव तबाह हो चुके हैं. वहीं सैकड़ों घर कोसी में समा चुके हैं.
      इधर नदी में पानी बढ़ने से सदर प्रखंड के बलवा, तेलवा, सितुहर, गोपालपुर सिरे, घूरन, किसनपुर प्रखंड अंतर्गत बौराहा, बैंगा, सोनवर्षा, एकडारा, भवानीपुर, अरराहा, गम्हरिया, कमलदाहा, झखराही, परसा, सरायगढ़ प्रखंड के बनैनियां, बलथरवा, कटैया, भुलिया, ढ़ोली, कबियाही, उग्रीपट्टी, लोकहा पलार, सियानी आदि गांवों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर जाने के कारण लोगों के समक्ष कई प्रकार की कठिनाई उत्पन्न हो गयी है.
किसनपुर के बौराहा एवं बैंगा गांव पूरी तरह कटाव की चपेट में है. इन गांवों के करीब 100 से अधिक घर नदी में विलीन हो चुके हैं. जबकि सोनवर्षा व बुरजा में जलस्तर बढ़ने से पूरा गांव जलमग्न हो चुका है.
     प्रशासन द्वारा एनडीआरएफ की टीम तैनात की गयी थी. लेकिन एनडीआरएफ के लोग पानी में व्याप्त कुछ समस्या बता कर वापस लौट गये. प्रशासन द्वारा जारी आदेश के बावजूद क्षेत्र में गोताखोर मौजूद नहीं हैं. कुल मिला कर बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लोग प्रशासनिक दावों के बावजूद आज भी कोसी मैया के रहमो करम पर जैसे-तैसे जीवन बसर कर रहें हैं.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...