26 जुलाई 2016

मधेपुरा: जिलाधिकारी ने मोटरबोट से आलमनगर के बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का लिया जायजा

मधेपुरा जिले के आलमनगर प्रखण्ड क्षेत्र के दक्षिणी भाग में आये भयंकर बाढ़ क्षेत्र का भ्रमण जिला पदाधिकारी मधेपुरा मो० सोहैल सहित जिले के अन्य वरीय पदाधिकारी ने मोटरबोट से किया.
       बाढ़ क्षेत्र के भ्रमण के दौरान डी एम ने बाढ़ पीड़ितों की परेशानियों से रूबरू होते हुए साथ में चल रहे पदाधिकारीयों को अविलंब समाधान करने का निर्देश दिया. उन्होने बाढ़ पीड़ितों को सांत्वना देते हुए कहा कि इस आपदा की घड़ी में जिला प्रशासन आप लोगों के लिए हर वक्त मुश्तैद है. डीएम ने मोटरबोट से सर्वप्रथम छतौना बासा में बाढ़ से प्रभावित लोगों से मिलकर उनकी समस्याओं को सुना बाढ़ पिड़ीतों ने बताया कि छतौना बासा टापु में तब्दील हो गई है. जरूरतों की समान खरीदने के लिए भी उन्हें एक मात्र नाव ही सहारा है.
     डीएम के निर्देश पर अविलम्ब सीओ आलमनगर विकास कुमार सिंह ने एक नाव का परमाना दिया. बाढ़ पीड़ितों ने जनवितरणप्रणाली की दुकान दूर रहने एवं पूरे गाँव में अंधेरा रहने के कारण सांप-बिच्छू का डर बना रहने की बात कही. इसपर डी एम ने आलमनगर एम ओ को मोबाईल से निर्देश देते हुए कहा कि अबिलंब नाव से बाढ़ पीड़ित परिवार के घरों पर पीडीएस का राशन के साथ-साथ तीन लीटर किरोसीन तेल मुहैया करवाने का निर्देश दिया. साथ ही बिजली विभाग के अधिकारियों को कल से हर हाल में विद्युत् आपूर्ति सुनिश्चित करने का निर्देश दिया. वहीं छतौनाबासा के कटाव पीड़ितों के पुर्नवास के मांग पर सीओ को उॅंची जगहों की तलाश कर जमीन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया. भ्रमण के दौरान रतवारा में पुर्व मुखिया विपिन शर्मा एवं मुखिया बीणा देवी सहित बाढ़ पीड़ितों ने कहा कि अभी घान की फसल की रोपाई की ही थी कि बाढ़ ने धान की फसल को लील लिया. इस पर डीएम ने साथ में चल रहे जिला कृषि पदाधिकारी को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में हुए फसल क्षति का आकलन कर रिर्पोट देने का निर्देश दिया. साथ ही डीएम ने स्थानीय मुखिया को कहा कि जिन  किसानों के फसल की क्षति हुई है उनकी सूची बनाकर दें, सभी को फसल क्षति अनुदान दिया जायेगा.
     वहीं सीओ को शौचालय में हो रहे परेशानी पर अबिलंब बांस का शौचालय निर्माण करने के साथ-साथ सभी नाविकों को प्रत्येक शनिवार राशि देने का निर्देश दिया. वहीं डीएम ने सुखार घाट में कोसी के कटाव का निरीक्षण किया. निरीक्षण के दौरान उन्होने कटाव पीड़ित कन्हैया सहनी एवं प्रमोद सहनी को तत्काल राहत राशि 9800 रूपया दिया. साथ ही अविलंब जमीन उपलब्ध कराने का अश्वासन दिया. डीएम ने सुखार घाट स्थित विद्यालय में तत्काल कटाव प्रभावित परिवारों को रहने एवं राहत शिविर चलाने का निर्देश भी दिया.
     भ्रमण के दौरान एडीएम मुकेश कुमार, जिला कृषि पदाधिकारी, जिला आपदा प्रभारी पवन कुमार, पीएचडी के मुख्य अभियंता,पीडब्लुडी के मुख्य अभियंता, सीएस मधेपुरा, सहित अन्य वरीय पदाधिकारी मौजूद थे.
(रिपोर्ट: प्रेरणा किरण)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...