23 जुलाई 2016

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना सहित अन्य योजनाओं के नाम पर ठगी का उदभेदन

सुपौल। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना सहित सरकार के अन्य महत्वकांक्षी योजनाओं के नाम पर कोसी प्रमंडल के तीनों जिले में कार्यालय खोलकर ठगी करने वाले एक संगठित गिरोह का उदभेदन सदर थाना पुलिस ने किया है.
         शनिवार को सदर थानाध्यक्ष राम इकबाल यादव ने ठगी करने वाली संस्था ग्रामीण विकास सेवा संस्था के सुपौल जिला मुख्यालय स्थित कार्यालय को सील कर दंडाधिकारी की मौजूदगी में संस्था से जुड़े सभी पंजी और आवश्यक कागजातों को जब्त कर लिया है. इसी दौरान पुलिस ने कार्यालय के शाखा प्रबंधक सहित एक अन्य कर्मी को हिरासत में लिया है. पुलिस हिरासत में लिये गये दोनों कर्मी को पूछताछ कर रही है.
      स्थानीय लोगों ने बताया कि इस संस्था द्वारा जिला मुख्यालय के बसबिट्टी रोड स्थित अंसारी चैक पर विगत चार-पांच माह से कार्यालय खोलकर ठगी का कार्य किया जा रहा है. संस्था के कर्मियों ने बताया कि संस्था द्वारा मधुबनी और दरभंगा समेत कोसी प्रमंडल के सुपौल,सहरसा एवं मधेपुरा में कार्यालय है. बताया जाता है कि इस संस्था द्वारा इन जिलों में अब तक प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत ऋण दिलाने, स्वास्थ्य योजना के तहत हेल्थ कार्ड बनवाने एवं बेरोजगार युवक व युवतियों को नौकरी देने के नाम पर करीब 50 लाख  रूपये से अधिक की ठगी कर चुकी है.
     पुलिस द्वारा किये गये छापेमारी के दौरान संस्था का एमडी पुलिस के हत्थे नहीं चढ सका.

ऐसे हुआ मामले का उदभेदन: संस्था से जुड़े एक कर्मी को दो माह काम करने के बावजूद वेतन नहीं दिया गया तो उसने पुलिस उसकी शिकायत की।जिसके बाद कार्यपालक दंडाधिकारी विनोद कुमार सिन्हा के मौजूदगी में संस्था के कार्यालय से प्राप्त सभी कागजातों एवं पंजियों की गहन जांच की गयी. इस दौरान संस्था के कथित एमडी ओमप्रकाश कामत से दूरभाष पर संपर्क कर संस्था से संबंधित सभी कागजातों के साथ उपस्थित होने को कहा,लेकिन वे उपस्थित नहीं हुए.

फर्जीवाड़े में शहर के फर्जी डॉक्टर भी शामिल: इस ठगी में केवल संस्था के अधिकारी व कर्मी ही नहीं बल्कि जिला मुख्यालय में संचालित कई अवैध क्लिनिकों के फर्जी चिकित्सक भी शामिल हैं. भोली भाली लोगों से एक सौ रूपये लेकर संस्था द्वारा जिस कार्ड का निर्माण किया जाता था, उस कार्ड का उपयोग शहर के कुछ गिने-चुने निजी क्लिनिकों में होने की बात बतायी जा रही थी. संस्था के कर्मी लोगों को बरगला कर राशि प्राप्त करने के बाद यह बताते थे कि इन क्लिनिकों में उपचार कराने पर संस्था के माध्यम से छूट मिल सकेगा.
        मामले के संबंध में पुलिस अधीक्षक डॉ. कुमार एकले ने बताया कि सरकारी योजना के नाम पर भोले-भाले लोगों के साथ धोखाधड़ी बिलकुल बर्दाश्त नहीं किया जायेगा. पुलिस छानबीन कर रही है. कानूनी प्रावधान के तहत दोषियों को सजा दिलायी जायेगी. 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...