04 जुलाई 2016

जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा से बाबा की नगरी नरक में तब्दील

एक तो करेला दूजा नीम चढ़ा की तर्ज पर मधेपुरा जिला में बाबा की नगरी सिंहेश्वर की लगभग सभी सडकों पर बरसात में चलना पहले ही मुश्किल था ऊपर से बरसात में ही पंचायत के पुरोधाओं के द्वारा नाला की सफाई के कारण सिंहेश्वर मुख्य सडक पर चलना दूभर हो गया है.
     नालों से निकाले गये गंदे कीचड़ वर्षा के पानी में सड़क पर इस कदर फैल चुका है कि इसपर चलना अत्यंत मुश्किल है. वैसे सिंहेश्वर प्रखंड मुख्यालय के शर्मा चौक के पास और रोड नंबर 18 में सडक पर बने गड्ढों में पानी लबालब भर जाने से सड़क तालाब में तब्दील हो गया है.
      अधिकांश लोगों का कहना है कि सरकारी योजनाओं की राशि को लूटने की जल्दीबाजी में बरसात में ही सडक साफ करने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड रहा है. लेकिन जनप्रतिनिधियो को जनता के समस्या से क्या मतलब? दुकानदारों का कहना है कि यह सफाई अगर बरसात से पहले की गई होती तो आज जैसी भयावह स्थिति उत्पन्न ही नहीं होती. फिलहाल लोग नरक से मुक्ति तो चाह ही रहे हैं.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...