19 जुलाई 2016

सिंहेश्वर: अतिक्रमण के खिलाफ प्रशासन का डंडा तो चला, पर कसर बाकी है...

प्रसिद्ध श्रावणी मेले को लेकर पूर्व में दी गई सूचना के अनुसार मधेपुरा के सिंहेश्वर में  अतिक्रमणकारियों पर आज प्रशासन का डंडा चल ही गया.
    सिंहेश्वर के सीओ जय जय राम यादव और थानाध्यक्ष बीडी पंडित अपने दल बल के साथ महावीर चौक से मंदिर रोड, बाय पास और मेनरोड के दुकानदारों से नालों के ऊपर रखे सामानों को हटवाया. हालांकि सावन अपनी मौजूदगी का अहसास कराते हुऐ अपनी फुहार से अतिक्रमण हटाने के काम में बाधा जरूर डाली. मंदिर रोड में अतिक्रमण हटाने के क्रम में लोगों ने न्यास पर निजी लाभ के लिये मंदिर के दक्षिणी गेट को बंद करने और बाय पास के वीरान रोड के तरफ का गेट खोलने का आरोप लगाया है. हालांकि सघन इलाके वाले गेट को सुरक्षा के नाम पर बंद करना कुछ और ही इशारा कर रहा है.
      मंदिर रोड के होटल व्यवसायी विजय साह ने अविलंब मंदिर के दक्षिणी गेट को खोलने की बात कही. मंदिर के पीछे बाय पास में फैले गंदगी को जेसीबी से हटाया जा रहा है. लगातार मधेपुरा टाइम्स के द्वारा मेनरोड मे नाला की सफाई के बाद फैले गंदगी को लेकर उठाई आवाज आज रंग लाई और मजदूर लगा कर ट्रैक्टर पर उस गंदगी को उठवाया जा रहा है. हालाकि अभी तो दुकानदारों ने नाले पर से अतिक्रमण हटा लिया जो हमेशा होता आया है और फिर एक दो दिन के बाद रोड तक दुकान सज जाती है. खास कर हाथी गेट के पास कई दुकानें पूरी तरह नाले पर ही रहती है. दुकानदारों मे आगे बढा कर दुकान लगाने की होड मची रहती है जिसके कारण दुकान बढते-बढते सड़क पर आ जाती है और जाम की समस्या बनी रहती है.
      पानी छूटने के बाद अधिकारी मेनरोड में पहुँच कर अतिक्रमण खाली कराना शुरू किया. वहीँ कुछ लोग तो नाला पर ही सीढ़ी बनाकर सीढ़ी पर दुकान लगाये रहते हैं, जिसको नही हटवाने पर फल विक्रेता मनोज गुप्ता ने कहा कि गरीब के दुकान को तुरंत हटा दिया जाता है लेकिन पैसे वाले के दुकान को कोई हटाने के लिये भी नही कहता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...