25 जून 2016

अच्छी खबर: मधेपुरा में इंजीनियरिंग कॉलेज के बाद अब मेडिकल कॉलेज में भी पढ़ाई आने वाले सत्र से संभव: कार्य में तेजी लाने के लिए डीएम ने की समीक्षात्मक बैठक

जिला पदाधिकारी के रूप में ज्वाइन करने के साथ ही  मो. सोहैल ने राज्य और केंद्र सरकार की लंबित चल रही परियोजनाओं में तेजी लाने का काम शुरू कर दिया. रेल इंजन कारखाना निर्माण का मसला सुलझाना हो या इंजीनियरिंग कालेज का, इन दो सफलताओं के बाद जिलाधिकारी ने अब अपना ध्यान मेडिकल कालेज पर केंद्रित कर दिया है.
       मधेपुरा के जिलाधिकारी मो० सोहैल का प्रयास है कि आने वाले सत्र से ही मधेपुरा के मेडिकल कॉलेज में भी इंजीनियरिंग कालेज की तरह पढाई शुरू हो जाए. इसके लिए डीएम मो० सोहैल ने मेडिकल कॉलेज के निमार्ण कार्य की प्रगति को लेकर निर्माण में लगी एजेंसी एल एंड टी के अधिकारियों के साथ समीक्षात्मक बैठक की. बैठक के दौरान डीएम ने भवन निर्माण कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि हर हाल में एमसीआई से मान्यता के लिए जरुरी निर्माण कार्य को इस वर्ष के अक्टूबर माह तक पूरा कर लिया जाय. इसके लिए उन्होंने निर्माण कार्य में मजदूरों की संख्यां को बढ़ाने का भी निर्देश दिया. निर्माण कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि 1500 मजदूर प्रति दिन निर्माण कार्य में लगे हैं. इस पर असंतोष व्यक्त करते हुए  उन्होंने इस संख्या को दो गुणा करने का निर्देश दिया. यही नहीं मजदूरों की कमी दूर करने के लिए डीएम ने जिला के श्रम अधीक्षक को भी निर्माण में लगी कंपनी को सहयोग करने को कहा है. 
   जिलाधिकारी ने बताया कि जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कालेज के निर्माण में पैसे की कोई कमी नहीं है. अब तक 275 करोड़ रुपये का काम पूरा कर लिया गया है. नए बजट में भी कालेज के हिस्से पर्याप्त राशि हैं. उन्होंने भवन निर्माण के अलावे अन्य कार्यों में भी तेजी लाने का निर्देश सम्बंधित अधिकारी और निर्माण एजेसियों को दिया, जिनमे कालेज परिसर में बनने वाला पवार सब स्टेशन आदि भी शामिल हैं
    रेल इंजन कारखाना निर्माण का मामला हो या इंजीनियरिंग कालेज के मान्यता का या फिर अब मेडिकल कॉलेज के निर्माण और पढ़ाई का विषय हो, डीएम के रूप में मो० सोहैल के कार्य करने की शैली से तो अब तक यह स्पष्ट हो चुका है कि वे सरकार के विकास योजनाओं को मधेपुरा की जमीन पर उतारने के लिए कटिबद्ध हैं और जब भी मधेपुरा के विकास का इतिहास लिखा जाएगा, वर्तमान जिलाधिकारी की चर्चा उसमें प्रमुखता से होना तय मानिए.
(लेखक ईटीवी के वरिष्ठ संवादताता हैं.)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...