27 जून 2016

मधेपुरा जिला परिषद् अध्यक्ष का ताज फिर सजा मंजू देवी के सर

 “मुद्दई लाख बुरा चाहे तो क्या होता है
वही होता है जो मंजूर-ए-खुदा होता है.”
मधेपुरा में पंचायत चुनाव के परिणाम के बाद बहुप्रतीक्षित जिला परिषद् अध्यक्ष का ताज इस बार किसके सर सजेगा, ये सबसे अधिक चर्चा का विषय रहा. पर आज मधेपुरा जिला समाहरणालय में हुए चुनाव में सारे अटकलों पर विराम लगाती हुई निवर्तमान जिप अध्यक्षा मंजू देवी ने इस बात को साबित कर दिया कि परिस्थितियां कितनी भी प्रतिकूल क्यों न हो, परिणाम अपने पक्ष में किया जा  सकता है. बताते हैं कि मधेपुरा के कई दिग्गज माने जाने वाले राजनीति के महारथी इस बार मंजू देवी को हारने के लिए एकजुट थे.
    मधेपुरा के समाहरणालय में सुबह से भी भारी मात्रा में तैनात सुरक्षा बलों के बीच नौ बजे से जिला परिषद् के कुल 23 सदस्यों का पहले शपथ ग्रहण कार्यक्रम हुआ और फिर शुरू हुआ अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद के लिए वोटिंग का दौर. मुरलीगंज के वार्ड पार्षद श्वेत कमल उर्फ़ बौआ अपनी मां निवर्तमान जिला परिषद् अध्यक्ष मंजू देवी के समर्थन में भले ही बाहर ही थे, पर समर्थक इस आत्मविश्वास से भरे थे कि कुल 12 जिला परिषद् का समर्थन उनके साथ है. हालांकि चर्चा इस बात की भी थी कि अध्यक्ष पद के लिए दोनों पक्षों के द्वारा सारे साम-दाम-दंड-भेद अपनाए जा चुके हैं और विरोधियों का तो अंत तक दावा था कि वोटिंग के वक्त हालात बिलकुल उलटे होंगे. पर चुनाव परिणाम सामने आया और मंजू देवी के समर्थन में पड़े 12 वोट जबकि प्रतिद्वंदी डिम्पल देवी (पति-मनोज यादव, ग्वालपाड़ा) को 11 वोट मिले और इस तरह एक वोट से जीत का ताज लगातार दूसरी बार मंजू देवी के सर सज गया.
    पार्षद श्वेत कमल बौआ समेत सभी समर्थकों ने अबीर-गुलाल से जश्न मनाया. मौके पर पुनर्निर्वाचित जिप अध्यक्षा मंजू देवी ने कहा कि वे जनता का फिर से  आभार व्यक्त करती हैं और विकास के कार्य को सही दिशा देने के लिए हमेशा तत्पर रहेंगी.
    उधर रघुनन्दन दास मधेपुरा जिला परिषद् के उपाध्यक्ष निर्वाचित हुए. इन्होने अपने प्रतिद्वंदी अभिलाषा कुमारी को 7 मतों से पराजित किया. रघुनन्दन को कुल 15 मत मिले जबकि अभिलाषा कुमारी को 8 मतों से ही संतोष करना पड़ा.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...