13 जून 2016

आखिर बात किस्मत की रही: आलमनगर में चुनाव का विवाद सुलझा, बराबर मत मिलने पर हुआ लॉटरी से फैसला

मधेपुरा जिले के आलमनगर के पूर्वी पंचायत के मतगणना परिणाम को लेकर चल रहा विवाद आखिरकार खत्म हुआ. सोमवार को सुबह नौ बजे से राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा आयोग कार्यालय से विशेष प्रेक्षक रवीन्द्र कुमार गुप्ता, संयुक्त निर्वाचन आयुक्त, राज्य निर्वाचन आयोग बिहार के नेतृत्व में तीन सदस्यीय जांच कमिटी का गठन कर जिसमें डीडीसी मधेपुरा मिथिलेश कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी उदाकिशुनंगज मुकेश कुमार तथा जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी महेश कुमार के द्वारा मतगणना केन्द्र वीरेद्र कला भवन पहुँच कर मामले की बारीकी से जांच की.
     यहाँ पर जांच टीम के अधिकारियों ने प्रत्याशियों के समक्ष वैध एवं अवैध मतों की जांच की जिसके उपरान्त मुखिया प्रत्याशी रंजु देवी एवं नीलू के बीच बराबर-बराबर मत रहने की वजह से उन दोनों प्रत्याशियों के समक्ष पदाधिकारियों द्वारा  लॉटरी निकाला गया. लॉटरी के दौरान नीलू के भाग्य ने साथ दिया और नीलू की लॉटरी निकल आई. जांच टीम नें नीलू को विजयी घोषित करते हुए उन्हें प्रमाण पत्र निर्वाची पदाधिकरी मिन्हाज अहमद ने दे दिया.
       बताते चलें कि मतगणना के दौरन आलमनगर पूर्वी पंचायत की मतगणना चार जून को की गई थी. मतगणना के दौरान मुखिया प्रत्याशी रंजु देवी को 988 मत एवं नीलू को 986 मत प्राप्त हुए थे. इस तरह से रंजु देवी ने नीलू पर 2 मतों से बढ़त प्राप्त कर ली थी. इस दौरान नीलू के द्वारा निर्वाची पदाधिकारी को दिए गए पुर्नमतगणना के आवेदन पर पुर्नमतगणना कराया गया जिसमें रंजु देवी एवं नीलू को बराबर-बराबर 981 मत प्राप्त हुए. परन्तु दोनों प्रत्याशियों द्वारा यह फैसला अमान्य करार देने से दोनों के बीच लॉटरी भी नहीं किया जा सका एवं पूर्वी पंचायत आलमनगर का परिणाम स्थगित हो गया था. वहीं आलमनगर पूर्वी पंचायत के मुखिया प्रत्याशी का मत पत्र मतगणना केन्द्र के बाहर मिलने से भी प्रत्याशियों  के समर्थकों द्वारा जमकर बबाल काटा गया था मामले के गंभीरता को देखते हुए जहाँ निर्वाची पदाधिकारी ने उक्त पंचायत के मुखिया प्रत्याशी का परिणाम वरीय पदाधिकारी को प्रतिवेदित कर छोड़ दिया, वहीं मुखिया प्रत्याशियों द्वारा भी राज्य निर्वाचन आयोग को आवेदन देकर पुर्नमतगणना कराने की पहल किया गया.
   भारी वाद विवाद को देखते हुए राज्य निर्वाचन आयोग के द्वारा प्रेक्षक रूप में संयुक्त निर्वाचन आयुक्त रवीन्द्र कुमार गुप्ता को नियुक्त कर जिला के वरीय पदाधिकारीयों की जांच टीम के साथ मतगणना स्थल पर प्रत्याशियों के सामने वैध एवं अवैध मतों की गिनती की गई जिसमें नीलू को 981 एवं रंजू देवी को 981 मत प्राप्त हुए.  आज दोनों प्रत्याशियों को बराबर-बराबर मत मिलने पर लॉटरी सिस्टम किया गया जिसमें नीलू ने बाजी मार ली.
(रिपोर्ट: प्रेरणा किरण)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...