11 जून 2016

‘जुल्मी शासन के अंत की शुरुआत गम्हरिया जैसी घटना से होती है’: किशोर कुमार मुन्ना

मधेपुरा के गम्हरिया में गत सात जून को निरीह और निर्दोष लोगों पर की गई पुलिसिया कार्यवाही पर पूर्व विधायक और भाजपा नेता किशोर कुमार मुन्ना उस समय जम कर बिफरे जब उन्होंने घटना का वृत्तांत गम्हरिया जाकर घायल पत्रकार डिक्शन राज से सुना.
          भाजपा नेता ने सत्ताधारी नेताओं के खिलाफ तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि मधेपुरा जिला के गम्हरिया प्रखंड अन्तर्गत पंचायत आम चुनाव 2016 में सरकार के मंत्री स्थानीय विधायक ने जिला प्रशासन से मिलकर जो धांधली किया, वह लोकतंत्र का गला घोंटने जैसा है. बज्रगृह को खुलवाकर, मत-पेटी के सील को तुड़वाकर, मत-पत्रों में फेरबदलकर अपने चेहते अभ्यर्थियों की जीत सुनिश्चित कराने के लिए जो धिनौना खेल मंत्री के नेतृत्व में प्रशासनिक पदाधिकारी द्वारा खेला गया वह लालू-नीतीश राज्य की नजीर है. स्थानीय लोगों द्वारा व्यापक धांधली का प्रतिवाद किया तो जिला प्रशासन ने बच्चे, महिला, निरीह आम जन पर ऐसा पुलिसिया जुल्म ढाना शुरू किया कि दर्जनों लोग घायल हो गये, सात हजार आदमी पर मुकदमा दर्ज कर दिया, न्यूज़ संकलन कर रहे संवाददाताओ को बुरी तरह पीटा. उन्होंने कहा कि ऐसा जुल्म तो अंग्रेज राज में भी नहीं ढ़ाया गया था.
  पूर्व विधायक और भाजपा नेता किशोर कुमार मुन्ना ने पीड़ित परिवार से मिलकर कहा कि डरिये मत, हिम्मत से लड़िये. जुल्मी शासन के अंत की शुरुआत इसी तरह की घटना से होती है. नीतीश ने इतिहास से सबक न लेकर, सत्ता के खेल में लालू के साथ हो लिये, लेकिन जिस जनता ने सर बैठाया वही उन्हे ठिकाना भी लगाएगी. जन समर्थन को जिसने भी कुचलने की कोशिश की, उनका हश्र बुरा हुआ.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...