30 जून 2016

डरिये मत! फेसबुक आपके सारे फोटो को पब्लिक करने नहीं जा रही है, बस कोरी अफवाह है

सोशल मीडिया एक तरफ जहाँ कई मुद्दों पर कारगर है वहीं हर मानसिक स्तर के लोगों के प्रवेश ने इसे अफवाह का अड्डा बना दिया है. और रह-रह कर अफवाहें भी ऐसी उड़ती है कि पढ़े लिखे लोग भी गच्चा खा जाएँ.
    जन-गन-मन को यूनेस्को द्वारा दुनियां का सबसे अच्छा राष्ट्रगान चुनने की बात हो या किसी बड़े लोगों के सम्बन्ध में कई ऐसी बातें जो कभी हुई नहीं हो, बिना वेरिफिकेशन किये लोग शेयर कर लेते हैं. ये इंटरनेट यूज का सबसे खतरनाक ट्रेंड है, जिससे आपको बचना चाहिए.
    अचानक फेसबुक पर कुछ इस तरह की खबर फैली और कई लोग बिना सोचे-समझे डर गए और अपने वाल पर कॉपी-पेस्ट करना आरम्भ कर दिए. मैसेज कुछ ऐसा है: “Everything you've ever posted becomes public from tomorrow. Even messages that have been deleted or the photos not allowed. It costs nothing for a simple copy and paste, better safe than sorry. Channel 13 News talked about the change in Facebook's privacy policy.  I do not give Facebook or any entities associated with Facebook permission to use my pictures, information, messages or posts, both past and future.
With this statement, I give notice to Facebook it is strictly forbidden to disclose, copy, distribute, or take any other action against me based on this profile and/or its contents. The content of this profile is private and confidential information. The violation of privacy can be punished by law (UCC 1-308- 1 1 308-103 and the Rome Statute).
NOTE: Facebook is now a public entity. All members must post a note like this. If you prefer, you can copy and paste this version. If you do not publish a statement at least once it will be tactically allowing the use of your photos, as well as the information contained in the profile status updates. DO NOT SHARE. Copy and paste to be on the safe side.”
   हम आपको बताते चलें कि भारत में इस मैसेज को हिन्दी में अनुवादित कर भी लोग अपने वाल पर कॉपी-पेस्ट कर रहे हैं.
    पता नहीं शायद आपमें से कई भी बेवकूफ बने हों. हम आपको बता दें कि ऐसा कुछ भी नहीं है और किसी सिरफिरे के बनाये मैसेज पर भरोसा कर हम नाहक घबरा गए. आइये इस मैसेज की बिन्दुवार सर्जरी करते हैं:

बिंदु संख्यां 1: फेसबुक पर इसके प्राइवेसी या डाटा पॉलिसी में पहले से सुविधा मौजूद है कि आप अपने पोस्ट/फोटो को ‘सिर्फ अपने लिए’, ‘फ्रेंड्स के लिए’ या ‘पब्लिक’ कर सकते हैं.

बिंदु संख्यां 2: मैसेज में Rome Statute  क़ानून की चर्चा की गई है. हम आपको ये भी बताते चलें कि Rome Statute global laws from the International Criminal Court covering war crimes and genocide से सम्बंधित है, न कि प्राइवेसी से सम्बंधित क़ानून बनाने से.

बिंदु संख्यां 3: मैसेज बनाने वाले ने किस तरीके से लोगों को बेवकूफ बनाया ये इस मैसेज में डाले शब्द UCC से भी स्पष्ट होता है. UCC का फुल फॉर्म the US Uniform Commercial Code है, जो कहीं से भी आपकी प्राइवेसी से नहीं जुड़ा हुआ है.

बिंदु संख्यां 4: फेसबुक यदि अपनी किसी पॉलिसी में बदलाव लाता तो ये सूचना आपको फेसबुक खुद ही देता न कि Channel 13 News के द्वारा. वैसे भी कोई स्थापित सोशल मीडिया आपकी प्राइवेसी के साथ छेडछाड नहीं कर सकता. प्राइवेसी का अधिकार आपका अपना अधिकार है और दुनियां भर के डेमोक्रेटिक कंट्री के क़ानून इसका समर्थन करते हैं.

अंतिम बिंदु: आपलोगों की इस नई परेशानी से सिर्फ हम ही नहीं, फेसबुक भी परेशान हो चुका है. फेसबुक ने अपने पाठकों से साफ़ शब्दों में इस ‘मैसेज’ पर भरोसा नहीं करने को कहा है. हमारी बातों पर भरोसा कीजिए और इस लिंक पर क्लिक कर खुद ही देख लीजिये.
(लेखक डिप्लोमा इन सायबर लॉ हैं और एशियन स्कूल और सायबर लॉ , पुणे ने इन्हें अगस्त 2009 में पूरे भारत के लिए ‘स्टूडेंट ऑफ द मंथ ' चुना था.)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...