27 मई 2016

खरीफ महोत्सव: इन बातों का यदि रखें ध्यान तो किसानों की कई समस्याओं का होगा हल

मधेपुरा जिले में आज सिंहेश्वर और कुमारखंड प्रखंड में किसानों को उन्नत खेती के तकनीक को किसानों के बीच पहुंचाने के लिए खरीफ अभियान 2016 चला कर प्रखंड स्तरीय खरीफ महोत्सव सह प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया.
   सिंहेश्वर में शिविर का उद्धाटन का बीडीओ अजीत कुमार कुमारखंड में बीएओ नवल किशोर सिंह ने किया. इस अवसर पर बीडीओ श्री कुमार ने कहा कि सरकार किसानों को समृद्ध करने के लिए नई नई तकनीक किसानों तक पहुचा रही है. नई तकनीक से किसानों के उपज में कई गुणा बढोतरी हो जाती है. जरूरत है सभी संसाधनों का उपयोग किसानों करे.
   कृषि वैज्ञानिक मिथिलेश राय ने बताया आज जीरो बजट में खेती करने का उद्देश्य है कि खेती के लिए जिन-जिन संसाधनों की आवश्यकता होती है वे सभी घर में उपलब्ध करना. जीरो बजट खेती आध्यात्मिक कृषि का ही एक रूप है. उन्होंने अच्छादन, मृदाच्छादन, काष्ठाच्छादन, सजीवच्छादन सहित कई तकनीकी जानकारी दी. बीटीएम डा. विनोद कुमार ने बताया कि जीरो टीलेज विधि से बिना जताई के ही बीज बोया जाता है. पैडी ट्रांसप्लांटर से धान की रोपाई के लिए मजदूर की समस्या खत्म हो जाती है. कृषि वैज्ञानिक सुनिल कुमार ने कहा बाढ ग्रस्त क्षेत्रों में जहा 15-5 दिनों तक पानी लगा रहता है वहां के लिए तनाव रोधी धान स्वर्णा सब-1 की खेती की जा सकती है.
     बीऐओ राजदेव राम ने कहा सरकार किसानों को हर प्रकार के बीज पर अनुदान देती है. मुख्यमंत्री तीव्र बीज विस्तार योजना मे हर राजस्व ग्राम के दो किसानों को 90 % के अनुदान पार बीज दे रही है. शंकर धान में 100 रूपया किलो, बीज ग्राम में 50 % अनुदान, मक्का प्रतिरक्षण में 1600 सौ रुपए का अनुदान दिया जा रहा है. वही प्रखंड का लक्ष्य बताते हुए कहा श्री विधि मे 152  एकड, जीरो टीलेज विधि से 85 एकड, पैडी ट्रांसपलांटर से 27 एकड, तनाव रोधी धान स्वर्णा सब-1 में 35 एकड का लक्ष्य रखा गया है.
    मौके पर प्रखंड पशुपालन पदाधिकारी डा. श्वेता रानी, डा. आर पी. शर्मा,  आत्मा प्रखंड अध्यक्ष सिंहेश्वर रौशन कुमार सिंह, कुमारखंड भोला यादव, बीटीएम आनंद अकेला, किसान सलाहकार राणा संग्राम सिंह,  अश्वनी पाठक, मनोज कुमार, शिवशंकर कुमार, प्रदीप कुमार, पिंटू कुमार, प्रवीण कुमार राम आदि मौजूद थे.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...