29 मई 2016

मधेपुरा में बजरंगबली की मूर्ति स्थल पर बढ़ा विवाद, तीन हिरासत में

मधेपुरा जिला मुख्यालय के वार्ड नं.14 में दूरसंचार कार्यालय के बगल में खाली एक छोटे से जगह पर बजरंगबली की मूर्ति स्थापित करने के बाद उस जमीन पर दावा करने वाले वार्ड के ही एक व्यक्ति को आज उस समय महंगा पड़ गया जब विवाद बढ़ने पर मौके पर थाना के अधिकारी के पहुँचने के बाद मधेपुरा के जिलाधिकारी भी मौके पर पहुँच गए.
       मिली जानकारी के अनुसार वार्ड नं. 14 के निवासी जवाहर पासवान ने मधेपुरा थाना में एक आवेदन देकर कहा कि वार्ड के ही शशिशेखर यादव ने जबरदस्ती बंदोबस्ती से मिली मेरी निजी जमीन पर बजरंगबली की मूर्ति करीब सप्ताह भर पहले जमीन हड़पने की नीयत से लाकर रख दिया. मना करने पर वे लोग जातिसूचक गाली भी देते हैं और मारपीट की भी धमकी देते हैं.
       जबकि वार्ड के कई लोगों का कहना था कि सड़क से सटे उस छोटे से जमीन के भाग पर अपना दावा जताने के लिए जवाहर पासवान किसी झूठे कागजात से उक्त जमीन उन्हें मिलने की बात कह रहे हैं. जमीन उनकी नहीं है. बताया जाता है कि इसी दरम्यान आज उक्त जगह पर अपना हक़ जताने पहुँचे जवाहर पासवान और उसके पुत्र का विरोध स्थानीय लोगों ने कर दिया और आरोप लगाया कि उसने बजरंगबली की मूर्ति का हाथ भी तोड़ दिया है. बताया यह भी जाता है कि जवाहर पासवान आदि ने मूर्ति के हाथ टूटने के पीछे का कारण कुछ और बताते हुए साम्प्रदायिक माहौल भी बिगाड़ने का प्रयास किया.
       विवाद बढ़ने की जानकारी मिलने पर मधेपुरा के जिलाधिकारी मो० सोहैल, सदर एसडीओ संजय कुमार निराला और मधेपुरा थानाध्यक्ष मनीष कुमार आदि भी मौके पर पहुंच गए. जिलाधिकारी ने अंचलाधिकारी को 24 घंटे के अन्दर उक्त बंदोबस्ती रद्द करने करने का निर्देश दिया है जबकि मौके पर अशांति फैलाने और साम्प्रदायिक माहौल बिगाड़ने के आरोप में पुलिस ने जवाहर पासवान और उसके पुत्र समेत तीन लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...